मध्यप्रदेश में गिर सकती है कांग्रेस की सरकार, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिये संकेत

610

कांग्रेस पार्टी पिछले काफी लम्बे समय से अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही है और ये हम सभी लोग अच्छे तरीके से देख भी रहे है कि जिस तरह से इस पार्टी ने अपने बुरे दौर को देखा है वो काफी चिंता का विषय इसके भविष्य के लिए भी खड़े कर देता है इस बात में कोई भी संशय नही है मगर अब कांग्रेस की स्थिति उन राज्यों में भी लडखडाते हुए नजर आने लगी है जहाँ पर इनकी परफॉरमेंस में सुधार माना जा रहा था क्योंकि पार्टी के अन्दर ही फूट पड़ने के आसार नजर आ रहे है.

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने प्रोफाइल से हटाया कांग्रेस का नाम, काफी समय से चल रहा है मनमुटाव
मध्यप्रदेश में कांग्रेस का बहुत बड़ा वोट बैंक संभालने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने प्रोफाइल से कांग्रेस शब्द को हटा दिया है और न ही अब ऐसा कोई लोगो वगैरह अपने प्रोफाइल पर रखा है जो कांग्रेस से जुडा होने के संकेत देता हो. अब उन्होंने अपने प्रोफाइल में सिर्फ और सिर्फ जनसेवक और क्रिकेट प्रेमी लिख दिया है जिसे हलके में तो नही लिया जा सकता है.

पिछले डेढ़ दो साल से नाराज चल रहे है सिंधिया
ज्योतिरादित्य सिंधिया पिछले लम्बे समय से नाराज ही चल रहे है और इसके पीछे का कारण है कमलनाथ. पार्टी ने न सिर्फ कमलनाथ को सिंधिया की उपेक्षा करते हुए मुख्यमंत्री बना दिया बल्कि पिछले समय से जब से कांग्रेस की मध्यप्रदेश में सरकार बनी है तब से उन्हें कोई भी तरजीह नही दी जा रही है. एक तरह से मानो साइड लाइन कर दिया गया है जो उनके कांग्रेस से मोहभंग होने के संकेत देता है.

ये अपने आप में चिंता से भरी हुई बात भी है पूरी पार्टी के लिए क्योंकि ज्योतिरादित्य सिंधिया सिर्फ कोई एक मामूली नेता नही है बल्कि उनकी एक साख है और अगर वो एक इशारा कर दे तो दर्जनों एमएलए कमलनाथ के पीछे से अपना हाथ खींच लेंगे जिससे उनकी सरकार गिरते देर नही लगेगी.