अजीत पवार को मनाने पहुंचे एनसीपी के नेता, पवार ने सुनाया अपना अंतिम फैसला

378

अजीत पवार महाराष्ट्र की राजनीति में वो नाम बन चुका है जिसने सब कुछ एक बार के लिये पलटकर के ही रख दिया और कही न कही उन्होंने एनसीपी और शिवसेना में जो गठजोड़ बैठने जा रहा था उसे भी पूरी तरह से बदलकर के ही रख दिया इस बात में कोई भी संशय नही है. मगर इसी के साथ अब इस फैसले के कुछ एक साइड इफेक्ट्स भी तो आने थे और अजीत पवार के साथ में ये सब कुछ होना शुरू भी हो गया है जो अपने आप में सभी को काफी ज्यादा हैरान भी कर रहा है.

अजीत पवार से मिलने पहुंचे एनसीपी नेता, नही पाने पवार
अजीत पवार से मिलने के लिये एनसीपी के कई नेता उनके मुम्बई आवास पर पहुंचे जिन्होंने कोशिश की कि पवार को किसी तरह से मना लिया जाये और वो भाजपा को छोड़ दुबारा एनसीपी के खेमे में आ जाये लेकिन पवार ने बिना कोई ठोस कारण दिया अपना फैसला सुना दिया कि वो अब भाजपा के साथ ही रहेंगे और उन्हें समर्थन देते रहेंगे. इस बात की पुष्टि एनसीपी के नेता नवाब मलिक ने खुद की है.

शरद पवार दे चुके है कार्यवाही की चेतावनी
अजीत पवार अपनी मनमानी कर रहे है लेकिन शरद अब इस बात से बहुत ही ज्यादा नाराज हुए जा रहे है और उन्होंने इस बात पर अजीत पवार और उनके खेमे के विधायको को चेतावनी देते हुए कहा है कि वो उनके पक्ष में लौट आये और अगर ऐसा नही करते है तो फिर न सिर्फ दल बदल क़ानून के तरह उनकी विधायकी जायेगी बल्कि अगले चुनाव में वो शिवसेना और कांग्रेस के साथ मिलकर उन्हें जीतने भी नही देंगे.

हालांकि इस तरह की मान मनव्वल से लेकर धमकियों का भी पवार पर कोई भी असर नही हुआ है और वो अपने पुराने रूख पर कायम है. हालांकि फ्लोर टेस्ट में रिजल्ट क्या आता है ये ही महाराष्ट्र का भविष्य तय करेगा क्योंकि दोनों तरफ के लोग खेमेबंदी में जुट चुके है.