राम मंदिर पर फैसला देने वाले 5 जजों में शामिल था ये मुस्लिम जज, अब बड़ी मुश्किल में फंस गया है

296

कई दशको के इन्तजार के बाद में आखिरकार हिन्दू पक्ष को उसका न्याय मिला है और जो तकलीफ इस मामले में राम के भक्तो ने झेली है उसका कोई पार ही नही है इस बात को तो मानना ही पड़ेगा और इसमें कोई शक भी नही है मगर इसके बावजूद इन्तजार किया और आखिरकर सुप्रीम कोर्ट ने हिन्दुओ के पक्ष में फैसला दिया. ये पाँव लोगो की सर्वोच्च बेंच थी जिसमे सुप्रीम कोर्ट के सबसे वरिष्ठ जज और खुद चीफ जज गोगोई भी थे. फैसला हो गया लेकिन इस फैसले के साइड इफ़ेक्ट अब नजर आने लगे है.

एस अब्दुल नजीर को मिली धमकी, सरकार ने उपलब्ध करवायी जेड प्लस सुरक्षा
इन पांच जजों में एक मुस्लिम जज भी थे जिनका नाम था अब्दुल नजीर जिन्होंने हिन्दू पक्ष के हक में फैसला दिया और शायद यही बात कुछ लोगो को नागवार गुजरी. फैसले के कुछ दिनों के बाद में अब्दुल नजीर को धमकियां मिलने लगी जिसके बाद में सुरक्षा एजेंसियों ने भी अलर्ट किया है कि उन्हें या उनके परिवार को खतरा हो सकता है. ऐसे में सरकार ने तुरंत प्रभाव से अब्दुल नजीर और उनके परिवार को बहुत ही उच्च लेवल की सुरक्षा उपलब्ध करवा दी है जिसमे वो पूरी तरह से सुरक्षित रहेंगे.

सरकार ने और भे लोगो को करवाई है सुरक्षा मुहैया
ये सिर्फ नजीर के लिए ही नही बल्कि और भी कई लोगो को सुरक्षा दी जा रही है जिनमे अयोध्या राम मंदिर के पुजारी, पुजारी का परिवार, अब्दुल नजीर और अन्य बाकी जजों की सुरक्षा में कुछ हद तक बढ़ोतरी की गयी है ताकि इस फैसले से अगर कोई नाराज है तो कही उन्हें नुकसान पहुंचाने की चेष्टा न कर बैठे. खैर इस अभेद किले में सभी लोग पूरी तरह से सुरक्षित है.

वही बात करे अगर राम मंदिर की तो इसके ट्रस्ट पर सरकार कार्य शुरू कर चुकी है और अगले दो से तीन हफ्ते में ट्रस्ट के सदस्यों के नाम सबके सामने आने शुरू हो जायेंगे. ऐसे में लोगो के बीच में खींचतान तो चल ही रही है.