अब यूपी के इस बड़े शहर का नाम बदलने जा रहे है योगी आदित्यनाथ

105

शहर, देश, चौराहों या फिर गलियों के नाम कही न कही हमारे बारे में कई चीजे है जिनके जरिये ही कही न कही हमारे समाज को या फिर देश को दर्शाया जाता है और हर सरकार चाहती है कि उनका देश या फिर उनका राज्य उनकी विचारधारा के अनुरूप ही दर्शाया जाए. इसलिए कहा जाता है कि नाम बदलने की परम्परा तो वाकई में बड़ी ही पुरानी है और कुछ ज्यादा ही पुरानी है काहे कोई भी सरकार रही हो और अब योगी सरकार भी उत्तर प्रदेश में ऐसा कुछ बदलाव करने जा रही है जिसकी कई लोगो की अपेक्षा थी.

आगरा का बदला जा सकता है नाम, विशेषज्ञों से मांगे गये सुझाव
योगी आदित्यनाथ की सरकार की नजर इन दिनों आगरा शहर पर है और क्योंकि ये नाम मुगलों का रखा हुआ है तो संभव है कि इसे बदल दिया जाये. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ इसका नाम अग्रवन या फिर अग्रबाण किया जा सकता है जो कही न कही भारत की पुरातन संस्कृति से समबन्ध रखता है. हालांकि अभी तक कुछ भी साफ़ नही हुआ है कि ये कब होगा और किस तरह से किया जाएगा?

ऐसा पहली बार नही हो रहा है जब नाम बदले गये है
बीजेपी की सरकार आने के बाद में ये पहली बार नही हुआ है जब नाम बदलने पर बात हो रही हो क्योंकि पहले नाम बदले जा चुके है. इससे पहले गुडगाव का नाम बदलकर गुरुग्राम, इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज और मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर के दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन आकर दिया गया है. इससे पता चलता है कि अब ये कोई नया काम नही है जिससे कोई टेंशन की रचना हो सके क्योंकि ये पहले से आजमाई हुई चीज है.

हालांकि इस तरह की परिपाटियाँ पहले दूसरी पार्टियां भी अपनाती रही है जब दिल्ली के कनोट प्लेस का नाम बदलकर के राजीव चौक रख दिया था और ऐसा करने वाली कांग्रेस पार्टी थी तो ये सब होता रहा है और शायद नाम बदलने की परिपाटी तो आगे भी चलती ही रहेगी.