एनसीपी ने शिवसेना के सामने आज फिर एक नयी शर्त रख दी है

779

महाराष्ट्र में शिवसेना फिलहाल खुद ही खुदको ऐसे जाल में फंसा चुकी है जहाँ से उसके लिए निकलना असंभव सा हो रहा है. एक तरफ तो वो अपनी सबसे पुरानी साथी पार्टी यानी बीजेपी का साथ छोड़ चुकी है और दूसरी तरफ एनसीपी और कांग्रेस भी शिवसेना को इतने दिनों से सिर्फ टरका रही है, समर्थन पत्र अभी तक शिवसेना के हाथ में नही आया है मगर एक के बाद एक शर्ते शिवसेना के ऊपर थोपने की कोशिशे जरुर की जा रही है और अभी हाल ही में एक और शर्त है जो एनसीपी ने शिवसेना के सामने रख दी है.

उद्धव ठाकरे ही बने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, आदित्य हमें मंजूर नही
एनसीपी ने साफ़ किया है कि अगर शिवसेना से मुख्यमंत्री बनना है तो वो उद्धव ठाकरे को बनाने को तैयार है लेकिन वो आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री नही बनायेंगे. अब शिवसेना इस पर क्या कहती है और उनका रिस्पोंस क्या रहता है ये देखने वाली बात होगी क्योंकि उद्धव तो खुद ही ये चाह रहे है कि उनके बेटे सीएम बने और ठाकरे परिवार की अगली पीढी राजनीति में जड़े जमकर खुदको साबित कर दे.

आदित्य के सामने अपने सीनियर नेताओं को झुकाने से डरती है एनसीपी और कांग्रेस
अगर आदित्य मुख्यमंत्री बनते है तो उनके सामने बाकी विधायको और केबिनेट के लोगो को झुकना होगा, उनके आर्डर मानने होंगे जिनमे एनसीपी के बड़े बड़े नेता और कांग्रेस के तो पूर्व मुख्यमंत्री रहे नेता भी शामिल होंगे. ऐसे में एक 30 साल के युवा के सामने संभवतः उन्हें अपने दिग्गजों को झुकाना अच्छा नही लग रहा है जिसके चलते उन्होंने एक और नयी शर्त रख दी है. अब ये शिवसेना पर है कि वो कब तक ये सब उल जलूल तरह की शर्तो का वजन ढो पाती है.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि आज शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस तीनो राज्यपाल से मिलकर के सरकार बनाने का प्रस्ताव पेश करने वाले थे लेकिन किसी वजह से इसे स्थगित कर दिया गया. अन्दर के सूत्र बताते है कि अभी भी इनके बीच में कई मामलो पर आपसी सहमती नही बन पायी है.