सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में लगायी मोदी सरकार को कड़ी फटकार

164

सुप्रीम कोर्ट इन दिनों में काफी ज्यादा एक्शन में है और अपने यहाँ पर आये मुद्दों को जोर शोर के साथ में सुलझा भी रहा है. अब आप राम मंदिर या फिर तीन तलाक को ही ले लीजिये मगर हाल ही में एक मुद्दा जो हमारी अपनी जिन्दगी और साँसों से जुडा हुआ है उस पर सरकार या फिर प्रशासन कोई भी नही चेता है तो कोर्ट को इस मामले में तल्खी दिखानी पड़ी है. ये तो आप जानते ही है दिल्ली के लोग सांस नही जहर फेफड़ो में ले रहे है और इसी पर कोर्ट चिंतित है.

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार पर की तीखी टिपण्णी, अगर चीन एयर प्यूरीफायर लगा सकता है तो हम क्यों नही?
आज दिल्ली एनसीआर में बढ़ रहे प्रदूषण अपर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की और सरकार को पूरी तरह से आड़े हाथो लिया जिसमे कहा गया कि प्रदूषण का स्तर 700 के पार जा पहुंचा है. लोग घरो तक में भी सांस नही ले पा रहे है. अगर चीन अपने यहाँ पर एयर प्यूरीफायर लगाकर के हवा साफ़ कर सकता है तो फिर हम क्यों नही? इस पर रोडमैप तैयार हो और हमें बताया जाये कि इसमें सरकार को कितना वक्त लगेगा?

सुप्रीम कोर्ट इस बात से चिंतित है कि दिल्ली विश्व का सबसे प्रदूषित शहर बनता जा रहा है जिससे न सिर्फ दुनिया भर में भारत की इज्जत खराब होगी बल्कि राजधानी के लोगो को तरह तरह की बीमारियाँ भी लग सकती है. ऐसे में केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया है कि इस मामले पर स्टडी करके रिपोर्ट पेश करने में उन्हें लगभग एक साल का समय चाहिए होगा. हालाँकि सुप्रीम कोर्ट इस मामले का जल्दी से जल्दी निपटारा चाह रहा है क्योंकि सब कुछ लोगो की जिन्दगी से जुड़ा है.

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल से भी कहा कि ओड ईवन को ठीक तरीके से लागू किया जाये. ये आधा अधूरा ओड ईवन है जिसमे आप कईयो को छूट दे देते है. अब ओड ईवन में किसी को भी छूट न दी जाये.