शिवसेना से गठबंधन मामले में अपने ही पार्टी के लोगो पर भड़क गयी है सोनिया गाँधी

276

शिवसेना एनसीपी और कांग्रेस तीनो के बीच में कही न कही गठबंधन को लेकर के बात हो रही है और समीकरण पूरे पूरे बनते हुए नजर भी आ रहे है कि ये तीनो ही मिलकर के महाराष्ट्र में अगली सरकार बनाने जा रहे है लेकिन हर किसी को अपने पार्टी के हित भी तो साधने पड़ते है और ऐसे में गलतियाँ करने से बचना जरूरी है. इस मामले में कांग्रेस का हाईकमान बहुत ही ज्यादा संजीदगी के साथ में खेल रहा है क्योंकि जिस तरह से शिवसेना उनकी विरोधी रही है तो संभलकर तो खेलना ही होगा और इसने सोनिया गांधी का पारा चढ़ा दिया है.

बिना सोनिया गाँधी से पूछे उद्धव ठाकरे से मिलने चले गये महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता, गुस्से में कांग्रेस की अध्यक्ष
जब शिवसेना के साथ गठबंधन की बात आयी थी तो सोनिया गांधी ने अपने लोगो से साफ़ तौर पर कहा था कि कोई भी अपनी तरफ से शिवसेना की तरफ नही जायेगा. पहले हम एनसीपी से बात करेंगे सारे मुद्दे तय करेंगे और इसके बाद हम लोग शिवसेना से आगे के गठबंधन और शर्तो पर बात करेंगे.

इतना सब कहने के बावजूद कांग्रेस के राज्य स्तर के नेताओं में गठबंधन करके सरकार बनाने की इतनी जल्दी है कि वो बिना किसी को बताये उद्धव ठाकरे से मिलकर के सरकार बनाने पर चर्चा करने में लग गये. ऐसे में जब सोनिया गांधी को इस बारे में पता चला तो वो भड़क गयी और उन्होंने उन्हें सख्ती से अपने खेमे में लौटकर चुप रहने के निर्देश दिए. कांग्रेस नही चाहती है कि शिवसेना को कही से भी ये लगे कि वो लोग भी सरकार बनाने को उतावले हो रहे है. इससे उनके पास में जो एडवांटेज है शिवसेना को काबू में रखने का वो खत्म हो जायेगा.

खैर अब कहा जा रहा है महज अगले चौबीस घंटो के अन्दर सब कुछ फाइनल हो जाएगा कि सरकार कैसे बनेगी और किस तरह की शर्ते आपस में रखी जा रही है? हालांकि मुख्यमंत्री तो शिवसेना का ही बनेगा ये तीनो पार्टियां मान चुकी है.