विश्व हिन्दू परिषद् ने इन दो भाजपा नेताओं को राम मंदिर ट्रस्ट का सदस्य बनाने की मांग की

232

अयोध्या के मामले में पिछले काफी लम्बे समय से बहस चल रही थी और ये बहस देखते ही देखते इतनी ज्यादा बढ़ी जिसकी कोई हद नही थी. दोनों ही पक्षों ने अपनी अपनी दलीले दी लेकिन आखिरकार हिन्दू पक्ष की जीत हुई और सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर निर्माण के लिए आदेश दे दिया. अब आदेश तो दे दिया लेकिन मंदिर बनाने के लिए एक ट्रस्ट की भी जरूरत तो है जो मंदिर बनाने से लेकर उसकी देख रेख आदि के कार्यो को को देखे. अब इस ट्रस्ट को बनाने के लिये सरकार को जिम्मेदारी मिली है और हिन्दू संगठन इस पर अपनी अपनी दलीले दे रहे है.

विश्व हिन्दू परिषद् की मांग, शाह और योगी बने ट्रस्ट के सदस्य
कार्यशाला के प्रभारी अन्नूभाई सोमपुरा मंदिर निर्माण के लिए जो पत्थर वगेरह तराशे जा रहे है उनका ध्यान रख रहे है और अभी हाल ही में इस मामले में उन्होंने अपनी बात भी रखी है. उनके अनुसार मंदिर के नये ट्रस्ट में देश के गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को शामिल किया जाना चाहिये और राम मंदिर के ट्रस्ट का निर्माण गुजरात के सोमनाथ मंदिर के ट्रस्ट की तर्ज पर ही होना चाहिये.

अब ये कुछ बाते है जो उनकी तरफ से रखी गयी है. इसे मानना या फिर न मानना तो उन पर ही निर्भर करेगा जिन्हें फैसला लेना है बाकी योगी आदित्यनाथ तो इस जिम्मेदारी को ख़ुशी से उठा लेंगे क्योंकि वो तो पहले भी गोरक्षनाथ मंदिर में महंत के तौर पर कार्य कर चुके है और उन्हें ये पसंद भी है. रिपोर्ट्स की माने तो ट्रस्ट के सदस्यों के नाम नवम्बर माह के अंत तक सामने आ जायेंगे और मंदिर निर्माण भी इसके बाद तो जल्द ही शुरू हो जाएगा इसमें कोई शक वाली बात नही है.

खैर अब योगी और शाह को इसमें शामिल किया जाता है या फिर नही ये तो देखने वाली बात ही होगी क्योंकि ऐसा करना मतलब बहुत से विवादों को न्योता देने जैसा भी होगा इसमें कोई भी शक नही है.