अब उद्धव ठाकरे ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कही भाजपा के बारे में ऐसी बाते

344

अब उद्धव ठाकरे अपना पूरा मूड तो बना चुके है कि मुख्यमंत्री तो शिवसेना से ही बनेगा और इसकी शुरूआती कीमत तो वो एनडीए से अपना नाता तोड़कर के चुके है. अब जब बीजेपी से नाता नही रहा और उद्धव ठाकरे का संचार ठीक तरह से दूसरी पार्टियों यानी एनसीपी और कांग्रेस के साथ भी नही हो पा रहा है तो ऐसे में वो बीच में लटक गये ही है. ऊपर से महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन और लागू हो गया है जो उनकी मुश्किले और भी ज्यादा बढ़ा रहा है इस बात में कोई दो राय नही है.

उद्धव ठाकरे की प्रेस वार्ता, अपनी तुलना पीडीपी बीजेपी गठबंधन से की
उद्धव ठाकरे 12 नवम्बर की देर रात को मातोश्री से बाहर आये और मीडिया वालो से बात की जहाँ पर उन्होंने बताया कि हमने शरद पंवार जी को समर्थन देने के लिये फोन किया था. अगर भाजपा और महबूबा मुफ़्ती की पार्टी पीडीपी कश्मीर में एक साथ काम कर सकती है तो हमारे केस में भी ऐसा हो ही सकता है. शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस तीनो मिलकर के साथ में काम करने का तरीका खोज ही लेंगे.

उद्धव ठाकरे ने साफ़ कहा कि हमारे ऊपर सवाल करने वाले ये बताये उन्होंने नीतीश और महबूबा के साथ सरकार कैसे बनायी? हमें सिर्फ और सिर्फ 24 घंटे का समय सरकार बनाने के लिए दिया गया जबकि हमें ज्यादा की मांग की थी. भाजपा ने मुझसे झूठ बोला है, मैं कोई सत्ता का लोभी नही हूँ. भाजपा ही है जो अपने वायदे से मुकर गयी है. एनसीपी और कांग्रेस के साथ में अभी बात चल रही है, हम चाहे तो अभी भी सरकार बना सकते है.

उद्धव ठाकरे कही न कही बातो ही बातो में भाजपा पर हमला करने से एक बार भी नही चूके और महाराष्ट्र में जो कुछ भी हो रहा है उसके पीछे बी उन्होंने भाजपा को ही जिम्मेदार बताया है. वही दुसरी तरफ वो कांग्रेस और एनसीपी को रिझाने के लिए एक से बढकर के एक कोशिश करने को तैयार नजर आ रहे है.