राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से महात्मा गांधी के पड़पोते नाराज, कही ऐसी घटिया बात

592

सुप्रीम कोर्ट में पिछले लम्बे समय से अयोध्या मामले पर सुनवाई चल रही थी और इसी सुनवाई के दौरान सभी पक्षों की दलीले सुनी गयी. हर कोई अपनी अपनी तरह से इसके बारे में बाते रख भी रहा था. जिस तरह से सर्वे की रिपोर्ट्स आदि सुप्रीम कोर्ट के सामने आयी उसके बाद में फैसला दिया गया कि जो जमीन है वो मंदिर पक्ष को ही मिलेगी और मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन कही और अयोध्या में दे दी जाये. सभी इस फैसले से बेहद ही खुश दिखे लेकिन कुछ लोगो के पेट में इससे भी मरोड़ उठने लग गयी.

तुषार गांधी ने कहा, सुप्रीम कोर्ट तो गोडसे को भी देशभक्त बता दे
तुषार गांधी जो महात्मा गांधी के पडपोते है उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का ऐसा अपमान किया है जिसके बारे में कोई कल्पना भी नही कर सकता है. अयोध्या मामले पर फैसला आने के बाद में तुषार गांधी ने ट्विटर पर लिखा कि अगर गांधी जी का जीवन ले लेने वाले नाथूराम गोडसे का केस सुप्रीम कोर्ट में चल रहा होता तो कोर्ट तो उसे भी देशभक्त मान लेता. तुषार के इस बयान के बाद में सोशल मीडिया पर उनकी आलोचना की जा रही है और लोग कह रहे है इस तरह की भाषा कोई आम आदमी बोलता तो पुलिस कबका उसे अरेस्ट कर चुकी होती.

सिर्फ तुषार नही कई लोग है इस कतार में
सिर्फ तुषार गांधी ही नही बल्कि और भी कई लोग है जो इस फैसले पर नाखुशी दिखा रहे है इसमें ओवेसी का नाम आता है जो इसे मुस्लिमो को भीख या खैरात में जमीन देने जैसी भाषा का प्रयोग कर रहे है. कांग्रेस के करीबी स्वरूपानंद सरस्वती ने भी कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद में झगडे होंगे लगेंगे.

कुल मिलाकर के नजर सिर्फ और सिर्फ ये आ रहा है कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद में जिन लोगो के राजनीतिक स्वार्थ पूरे नही हो रहे है वो सभी तमाम तरीके के लांछन भारत की न्याय व्यवस्था पर लगाने में लगे हुए है.