अब संजय राऊत ने भाजपा और राज्यपाल पर लगाये ये गंभीर आरोप

389

महाराष्ट्र में पिछले 14 दिन से जो भी राजनीतिक डेवेलपमेंट हो रही है वो पूरी तरह से अप्रत्याशित है क्योंकि किसी ने भी ये कल्पना नही की थी कि कभी भाई भाई की तरह रहने वाली शिवसेना और भाजपा आने वाले समय में एक दुसरे के इतनी ज्यादा खिलाफ हो जायेगी. एनडीए का गठबंधन लगभग टूट ही चुका है, बस शिवसेना द्वारा उसकी आधिकारिक घोषणा की जानी बाकी है मगर अब अलग होते ही आरोप प्रत्यारोपो का दौर भी शुरू हुआ है जो इस लड़ाई को अलग ही लेवल पर लेकर के जा रहा है.

राऊत ने भाजपा को बताया अहंकारी, गवर्नर पर भी आरोप मढ़े
शिवसेना के दिग्गज नेता संजय राऊत ने मीडिया से बातचीत में कहा कि भाजपा शिवसेना को मुख्यमंत्री पद देना नही चाहती है. वो फिफ्टी फिफ्टी पर भी सोचना नही चाहती चाहे विपक्ष में ही क्यों न बैठना पड़े? मुझे लगता है कि भाजपा का ये अहंकार महाराष्ट्र की जनता का अपमान है. राऊत ने साफ़ साफ़ तौर अपर बीजेपी को अहंकारी पार्टी बताया और कहा कि वो चुनाव से पहले किये गये अपने वादों और बातो पर से मुकर रही है.

यही नही संजय राऊत ने तो राज्यपाल पर भी भेदभाव करने का आरोप लगा दिए उन्होंने कहा ‘अगर राज्यपाल हमें थोडा ज्यादा समय देते तो हमें सरकार बनाने में आसानी होती. बीजेपी को पूरे 72 घंटे का समय दिया गया था लेकिन हमें काफी कम समय मिला है. यह भाजपा की राष्ट्रपति शासन लगाने की रणनीति है. उन्होंने सरकार बनाने से इनकार करके महाराष्ट्र की जनता के जनादेश का अपमान किया है.’

अब राऊत काफी कुछ कह रहे है और शिवसेना की तरफ भी लगातार बयानबाजी हो रही है. वो एनसीपी और कांग्रेस से विधायको का जुगाड़ करने में लगे हुए है वही दूसरी तरफ भाजपा ने तो इन सबसे हाथ जोड़ लिए और कहा है कि हमें इन सबका हिस्सा बनना ही नही है, हम सरकार नही बनायेंगे. बीजेपी इन सबसे बेहतर विपक्ष में बैठना ठीक समझ रही है.