बड़ी खबर: देवेन्द्र फडनवीस ने दिया इस्तीफ़ा, ठाकरे और उनकी पार्टी के बारे में कही ऐसी बाते

356

महाराष्ट्र में देवेन्द्र फडनवीस की पिछली सरकार का कार्यकाल पूरा हो गया है और उनका कार्यकाल पूरा होने के साथ ही साथ में अब उन्होंने अपना इस्तीफा महाराष्ट्र के राज्यपाल को सौंप दिया है जिसके बाद में फडनवीस महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री नही रहे. वो अब पद के दावेदार जरुर है लेकिन उनका सरकार बना पाना मुश्किल हो रहा है क्योंकि शिवसेना की भी अपनी मांगे है जो बीजेपी को जायज नजर नही आ रही है और ऐसी स्थिति में दोनों पार्टियों के बीच में टकराव होना लाजमी है और ये टकराव अब नजर भी आ रहा है.

फडनवीस ने सौंपा राज्यपाल को इस्तीफा, अब शिवसेना को जमकर कोसा
फडनवीस सरकार का कार्यकाल पूरा होने के बाद में उन्होंने अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया है जिसके बाद में उन्होंने मीडिया से बात की और वार्ता के दौरान उन्होंने कहा ‘चुनाव से पहले शिवसेना के साथ में फिफ्टी फिफ्टी जैसी कोई भी बात नही हुई थी. हम लोगो ने विधानसभा के चुनाव साथ साथ लड़े लेकिन चुनाव होने के बाद में परिस्थितियाँ ही बदल गयी. ये जनता के फैसले का अपमान है जब शिवसेना ने हमसे सीधे संपर्क करने की बजाय एनसीपी और कांग्रेस पार्टी से संपर्क साधा.’

फडनवीस ने तो ये तक कह दिया कि शिवसेना की तरफ से बीजेपी के शीर्ष स्तर के नेताओं के लिये कई ऐसे बयान दिए गये जो स्वागत योग्य बिलकुल भी नही है. मगर हमने कभी भी शिवसेना के किसी भी व्यक्ति पर कोई टिपण्णी नही की क्योंकि हम लोग बाला साहब ठाकरे का सम्मान करते है. इतनी आक्रामकता के साथ में फडनवीस पहली बार बोले है और उनके तेवर देखकर के इतना तो साफ़ हो गया है कि वो शिवसेना के सामने झुकने के मूड में तो बिलकुल भी नही है.

वही दूसरी तरफ शिवसेना की तरफ से मोर्चा संभाले हुए संजय राऊत भी बराबर जवाब दे रहे है. उनका तो सीधे सीधे बस इतना ही कहना है कि अगर बीजेपी हमारी शर्तो को मानती है तभी हमारे पास में सरकार बनाने के लिए आये, वरना वो जाने.