महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिये कांग्रेस ने दिया शिवसेना को खुला ऑफर

253

पिछले विधानसबह चुनावों के परिणामो के बाद में महाराष्ट्र के चुनावों में जो भी डेवलपमेंट देखने को मिले है वो पूरी तरह से अप्रत्याशित है. किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नही मिला है और भाजपा और शिवसेना जो दोनों ही पार्टियां मिलकर के सरकार बना सकती है उनके बीच में खींचतान चल रही है. शिवसेना मुख्यमंत्री पद का भी बंटवारा चाहती है जबकि भाजपा ऐसा करने को राजी नही है. दोनों आपस में मुंह फुलाये हुए बैठे है और इस घमासान के बीच में कांग्रेस ने अपना जबरदस्त पासा फेंक दिया है जो कही न कही शिवसेना को ललचाने का काम करेगा.

सीनियर कांग्रेस नेता हुसैन दलवई ने कहा, अगर शिवसेना कांग्रेस को प्रपोजल देती तो उनका सीएम बन सकता था
अब जब शिवसेना की इच्छा पूरी करने को बीजेपी तैयार नही है तो ऐसी स्थिति में कांग्रेस पार्टी ने अपना नया दांव चला है जिसमे हुसैन दलवई ने बयान देते हुए कहा ‘शिवसेना ढाई साल तक मुख्यमंत्री की बात कर रही है रही है लेकिन बीजेपी मानने को तैयार नही है. शिवसेना अगर हमें प्रपोजल देती है तो मुख्यमंत्री शिवसेना का हो सकता था लेकिन ऐसा प्रपोजल देने के लिये डेरिंग चाहिए.’

प्रफुल्ल पटेल भी शिवसेना को रिझा रहे है
कांग्रेस से पहले एनसीपी के दिग्गज नेता प्रफुल्ल पटेल भी शिवसेना को आकर्षित करने की कोशिश कर चुके है. उन्होंने बयान देते हुए कहा था कि वैसे तो हमे विपक्ष में बैठने का जनादेश मिला है लेकिन अगर परिस्थितियाँ बदलती है तो हम इस पर विचार कर सकते है. इसमें कही न कही वो शिवसेना को अपने साथ में जुड़ने का न्यौता दे रहे थे. अब शिवसेना के लिए सामने ऑफर पड़े है लेकिन भाजपा से उसके कई नैतिक फायदे भी है जिसे छोड़ना भी एक घाटे का सौदा ही है.

ऐसी स्थिति में सारा दारोमदार उद्धव ठाकरे पर टिका हुआ है कि वो शिवसेना का मुख्यमंत्री बनाने के लिये बीजेपी का साथ  छोड़ देती है या फिर अपने पुराने गठबंधन को बरकरार रखने के लिये अपनी इस जिद को छोड़ देते है.