औवेसी ने अब प्रधानमंत्री मोदी से ये मांग की है

169

कुछ वक्त पहले ही लोकसभा चुनावों का खुमार उतरा है लेकिन क्योंकि इस देश में चुनावी मौसम कभी खत्म नही होते है सो ऐसा ही कुछ फिर से भी देखने को मिल ही रहा है. महाराष्ट्र और हरियाणा में भी चुनाव आन पड़े है और इनकी हवा में सभी नेतागण अपनी अपनी रोटियाँ सेंकने में लगे हुए है और ऐसे में भला औवेसी कैसे पीछे रह सकते है? महाराष्ट्र में अच्छी खासी मुस्लिम आबादी के चलते औवेसी यहाँ से राजनीतिक पारी खेलने की फ़िराक में लगे ही रहते है.

औवेसी ने की मुस्लिमो को मराठियों की तरह आरक्षण देने की मांग
महाराष्ट्र के भिवंडी में ओवेसी अपनी पार्टी का प्रचार करने के लिए और उम्मीदवारो के वोट मांगने के लिए पहुंचे थे जहाँ पर उन्होंने कहा ‘अगर आप सोचते है तीन तलाक बिल लाने से मुस्लिमो को न्याय मिल गया तो आप गलत सोचते है. अगर आप सच में न्याय ही करना चाहते है तो महाराष्ट्र में मुस्लिमो को मराठा की तरह आरक्षण दे दीजिये. आप ही बताइए महाराष्ट्र में कितने मुस्लिम आईपीएस ऑफिसर है?’ ओवेसी ने यहाँ भी हर बार की तरह ही सिर्फ और सिर्फ मुस्लिम वोट्स को टारगेट करने की कोशिश की है.

पिछले लम्बे वक्त से ओवेसी यहाँ अपनी धाक जमाने की कोशिश में है ओवेसी की पार्टी एआईएमआईएम मुसलमान वोटो पर ही फोकस करती है इसलिए हैदराबाद तक सिमटकर के रह चुकी है लेकिन क्योंकि महाराष्ट्र के कुछ इलाको मे मुस्लिम वोटो का प्रतिशत बड़ा और अच्छा ख़ासा है तो इसी के चलते यहाँ पर अपना फायदा उठाने के इरादे से ओवेसी हर बार महाराष्ट्र से फायदा उठाने की कोशिश कर रहे है कि इक्के दुक्के विधायक भी चुनकर के आ जाये तो भी ठीक ही है.

मगर हर बार निराशा ही हाथ लगी है क्योंकि महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना एक छत्र राज कायम कर चुकी है. कभी दर्जन भर सीट जीतने वाली मनसे भी उनके सामने टिक नही पा रही है तो फिर एक बाहरी हैदराबादी की पार्टी भला कहाँ अपना अस्तित्व बचा पायेगी?