राम मंदिर केस: अयोध्या में धारा 144 लगी, कुछ बड़ा होने वाला है

150

पिछले लगभग तीन दशक से एक राम मंदिर का मामला अदालतों के चक्कर पर चक्कर लगा रहा है लेकिन कोई भी रिजल्ट देखने को नही मिला है. ऐसे दौर में कई लोग तो ऐसे भी है जो पूरी तरह से उम्मीद ही खो बैठे है. मगर हर सब्र एक न एक दिन खत्म होता है और उसका फल मीठा भी होता है. ऐसा ही कुछ राम मंदिर केस में भी होने जा रहा है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई लगभग अपने अंतिम दौर में पहुँच चुकी है और अब फैसला आने की घडी नजदीक आ रही है.

उत्तर प्रदेश प्रशासन ने अयोध्या में धारा 144 लगायी, 10 दिसम्बर तक लागू रहेगी
अगले तीन दिन की सुनवाई में हिन्दू पक्ष राम मंदिर के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट में अपनी दलीले रखेगा और इसके बाद में कोर्ट का फैसला लिखने का कार्यक्रम शुरू होगा जो इसके बाद तीन हफ्तों के भीतर कभी भी आ सकता है. इसी के मद्देनजर उत्तर प्रदेश की सरकार ने धारा 144 लगाकर के सब कुछ अभी से कण्ट्रोल में कर लिया है ताकि कोई भी नुकसान देने वाली घटना न हो और सब कुछ कुछ शान्ति से हो जाये.

मंदिर के पक्ष में फैसला आने की बन रही पूरी उम्मीद
अब तक जितने भी खुदाई में साक्ष्य मिले है और पुरातन विभाग की रिपोर्ट्स है उनके आधार पर तो यही साबित हो रहा है कि इस जगह पर पहले मंदिर हुआ करता था जिसे तोड़कर के मस्जिद बनाई गयी जिसके मुताबिक़ जमीन पर मालिकाना हक़ हिन्दू पक्ष का बनता है. हालांकि कोर्ट अब इस पूरे मामले को किस तरह से देखता है और क्या फैसला लेता है ये तो आने वाले समय में पता चल ही जाएगा.

मगर योगी सरकार अभी से मुस्तैद हो गयी है. पूरी तरह से अयोध्या में सब कुछ कंट्रोल में कर लिया गया है और इसी के चलते हुए सब कुछ अब सामान्य भी नजर आने लगा है जो होना बनता भी है. हालांकि इसके चलते अयोध्या वासियों को थोड़ी सी परेशानियों का सामना जरुर करना पड़ेगा.