संघ प्रमुख मोहन भागवत ने भारत के मुसलमानो के बारे में क्या कह दिया?

137

संघ यानी राष्ट्रीय सेवक संघ अपनी एक भिन्न विचारधारा को लेकर के जाना जाता है और ये विचारधारा कही न कही हिन्दुओ के करीब है और उनके संगठन को मजबूत करके अपनी संस्कृति आधारित अखंड भारत के निर्माण की है. भारतीय जनता पार्टी का निर्माण करके संघ ने इसमें बहुत ही बड़ी कामयाबी हासिल भी की है मगर अब संघ के निशाने पर हिन्दू आबादी के बाद में देश के अन्य अल्पसंख्यक लोग भी है जिनके बीच में वो अपनी छवि को और बेहतर करने का प्रयास कर रहा है.

भागवत ने कहा, दुनिया के सबसे सुखी मुसलमान भारत में मिलेंगे क्योंकि हम हिन्दू है
संघ प्रमुख मोहन भागवत उड़ीसा में एक सभा को संबोधित करने के लिये पहुंचे थे जहाँ बुद्धिजीवी लोग भी मौजूद थे. उन्होंने अपने संबोधन के दौरान कहा ‘भारत हिन्दुओ का देश है और इसी वजह से यहाँ पर सभी लोग सुरक्षित है. दुनिया का सबसे सुखी मुसलमान आपको भारत में ही मिलेगा. पारसी और यहूदी धर्म भी इस देश में सुरक्षित है. भारत के उज्ज्वल भविष्य के लिए हिन्दुओ को बदलना नही बल्कि पूरे समाज को संगठित करना होगा.’

अपनी बात को आगे बढाते हुए संघ प्रमुख ने कहा ‘भारत हिन्दुओ का राष्ट्र है और हिन्दू किसी पूजा, भाषा या फिर प्रांत प्रदेश का नही बल्कि एक संस्कृति का नाम है. यही हमारी सांस्कृतिक विरासत है. अलग अलग भाषा और कल्चर का होने के बावजूद यहाँ पर लोग खुदको एक मानते है. इसी एकता की भावना के कारण आज देश में मुस्लिम, बौद्ध, यहूदी और पारसी आदि धर्म भी पूरी तरह से सुरक्षित है. समाज को आज अच्छे अच्छे नेताओं की जरूरत है जो देश को लोगो को एक सही दिशा की तरफ ले जाने में समर्थ हो.’

औवेसी मोहन भागवत की बात पर भडके
ओवेसी ने मोहन भागवत की बात पर भड़कते हुए कहा भारत कोई हिन्दूराष्ट्र नही है बल्कि ये हम सभी का है. उन्होंने मोहन भागवत के बयान की आलोचना की जैसा कि वो हमेशा से ही करते भी है.