तुर्की ने दिया था कश्मीर पर पाकिस्तान का साथ, भारत ने ऐसे लिया बदला

356

भारत और पाक के बीच में जो कश्मीर का मुद्दा है वो वैसे तो दोनों ही देशो के बीच में आपस का मसला है जिसमे पाक अपनी ज्यादा ही होशियारी शुरू से ही दिखाता आ रहा है लेकिन इस पर कुछ देश अपनी ऊँगली करने से बाज नही आते है. वैसे तो पूरे विश्व के सभी लोग सभी देश कश्मीर मसले पर भारत को सही मानते है मगर तुर्की अपना अलग ही राग अलाप रहा है और इस कारण से उसकी अक्ल को ठिकाने लगाना जरूरी था जो भारत ने हाल ही में लगा भी दी है.

तुर्की ने किया था विश्व मंच पर पाक का सपोर्ट, कहा कश्मीर को सही से हल करे
तुर्की ने अभी हाल ही में यूएन की जनरल असेम्बली में दिए हुए स्पीच में पाक के एजेंडे का सपोर्ट किया था. तुर्की के राष्ट्रपति ने कश्मीर के लोगो को लेकर के चिंता जाहिर करके साफ़ कर दिया था कि वो इस मामले पर भारत के विरोध में है. अब तुर्की को जो करना था वो तो उन्होंने कर दिया लेकिन अब भारत की बारी थी उसे सबक सिखाने की.

भारत ने तुर्की की 2.3 बिलियन डॉलर की डील ठन्डे बस्ते में डाल दी
भारत को जहाजो और समुद्री बेडो से जुड़ा कुछ काम था और इसका आर्डर भारत ने हाल ही में तुर्की की एक प्राइवेट कम्पनी को दिया था. कम्पनी इतनी ज्यादा उत्साहित थी कि उन्होंने कहा था ‘हमने बड़े बड़े देशो की बड़ी बड़ी कम्पनियों को पछाड़कर विश्व के सबसे बड़े बाजार में अपनी जगह बनाई है.’ मगर तुर्की के राष्ट्रपति के इस फैसले के चलते उनके ही देश के प्राइवेट सेक्टर को 2 बिलियन डॉलर से ज्यादा का नुकसान झेलना पडा है.

भारत के पास में ऐसे एक नही बल्कि दर्जनों मौके है जहाँ वो तुर्की की आर्थिक मोर्चे पर कमर तोड़ सकता है. इसके अलावा भारत ने हाल ही में दो देशो अर्मेनिया और साईप्रस से दोस्ती के लिए हाथ बढाया है. ये वही देश है जिनकी तुर्की से लगातार दुश्मनी बनी रहती है और दुश्मन का दुश्मन आखिर दोस्त ही होता है.