जमानत लेने सुप्रीम कोर्ट पहुंचे चिदम्बरम, देखिये कोर्ट ने क्या किया?

195

पी चिदम्बरम फ़िलहाल जेल में है और जब जेल से निकलते है कुछ पलो के लिए तो कोर्ट के दरवाजे पर ही नजर आते है ताकि उन्हें कोई तो दया खाकर के जमानत दे दे लेकिन अभी तक चिदम्बरम को ये सुख नसीब नही हो सका है. उन्होंने सीबीआई कोर्ट में अर्जी दी तो वहां भी खारिच हो गयी, फिर दिल्ली हाई कोर्ट पहुंचे तो वहाँ भी जमानत न मिल सकी और इसके बाद में अपनी आखिरी उम्मीद यानी सुप्रीम कोर्ट में जा पहुंचे जहाँ पर उन्होंने जमानत के लिये अर्जी दी थी.

सुप्रीम कोर्ट ने फ़िलहाल नही दी कोई जमानत, सीबीआई को जारी किया नोटिस
सुप्रीम कोर्ट ने फ़िलहाल तो कोई भी जमानत नही दी है और इस हिसाब से निचले कोर्ट द्वारा तय की गयी उनकी 18 अक्टूबर तक की न्यायिक हिरासत जारी रहेगी और इस हिसाब से तो उनका दशहरा भी जेल में ही मनेगा. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने इस पर अगली सुनवाई 15 अक्टूबर को करने वाला है और इस सम्बन्ध में उन्होंने सीबीआई के वकील को एक नोटिस जारी करके इस तारीख तक अपने पक्ष में जवाब दायर करने के लिए आदेश दे दिया गया है.

अगर सुप्रीम कोर्ट ने नही दी जमानत, तो सारे दरवाजे बंद हो जायेंगे
सुप्रीम कोर्ट से अब एक हलकी और धुंधली उम्मीद बची है और वो भी हफ्ते भर में धूमिल होती हुई नजर आ रही है. अगर ऐसा हो जाता है तो फिर ऊपर कोई और अदालत है ही नही जहाँ पर चिदम्बरम दरवाजा खटखटा सके और आखिरकार उन्हें फिर से सीबीआई के राऊज एवेनेयू कोर्ट में आना ही पड़ेगा जो उन्हें लम्बे समय से तिहाड़ में रखे हुए है. जिस कोर्ट के आदेश पर चिदम्बरम अभी तक जेल में फंसे हुए है.

आपको बता दे उन पर यानी चिदम्बरम पर आईएनएक्स मीडिया मामले में बड़ा घोटाला करने और अपने पद का दुरूपयोग करके करीबियों को फायदा पहुंचाने जैसे कई संगीन आरोप लगाये है. फ़िलहाल तो न्यायिक हिरासत है लेकिन सीबीआई अगर इन आरोपों को साबित कर देती है तो फिर चिदम्बरम के लिए जेल से बाहर निकलना ही एक सपना भर रह जाएगा.