अब माँ और बेटे के बीच लड़ाई, सामने आया और कांग्रेस के अन्दर का बड़ा सच

360

अब तक कांग्रेस पार्टी की अगर हम बात करे तो ये कही न कही गांधी परिवार के इर्द गिर्द घूमा करती थी और गांधी परिवार कही न कही सत्ता को लेकर के आपस में एकजुट रहता था. मगर पिछले कुछ दिनों से सब कुछ पूरी तरह से बदलता हुआ नजर आ रहा है. जी हाँ, कांग्रेस पार्टी में जो लोग कभी वफादार कहे जाते थे वो अब खिलाफत में उतर आये है जो गांधी परिवार कभी एकजुट था वो अब एक दुसरे के विरोधी फैसले लेते हुए नजर आ रहा है और ये राजनीति के इतिहास में पहली बार है.

संजय निरूपम का आरोप, सोनिया गांधी के लोग राहुल गांधी के करीबियों को सिस्टेमेटिक तरीके से ठिकाने लगा रहे है
कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता संजय निरूपम ने कांग्रेस की आंतरिक कलह को खोलकर के रख दी है. वो कहते है कि सोनिया गांधी के वफादारो का खेमा अब आगे बढ़ चला है और राहुल के करीबियों को कोई पूछ तक नही रहा है. यही नही राहुल की हिमायत करने वालो को अब सिस्टेमेटिक तरीके से ठिकाने लगाया जा रहा है. वो लोग राहुल की वापसी नही होने देना चाहते है.

कई जगहों पर माँ बेटे में भी दिखा है अंतर्विरोध
ऐसा नही है कि सिर्फ राहुल गांधी को लेकर के ऐसे कोई बाते उछली है. माँ बेटे के अन्दर अंतर्विरोध उनके फैसलो को लेकर के देखने में भी आया है. अशोक तंवर हरियाणा में राहुल के खास थे लेकिन सोनिया ने उन्हें अध्यक्ष पद से हटा दिया. अभी जो हो विरोध प्रदर्शन हुए वो उसी का नतीजा है. संजय निरूपम के साथ हुआ वो तो उन्होंने खुद ही बयान कर दिया. ज्योतिरादित्य सिंधिया जो राहुल के करीबी थे उन्हें भी सोनिया गाँधी के करीबी अहमद पटेल ने प्रदेश अध्यक्ष तक बनने नही दिया, सीएम का पद तो वो पहले ही खो चुके है.

कुल मिलाकर के कांग्रेस दो खेमो में बंट चुकी है एक वो जो सोनिया का प्रभुत्व चाहता है तो दूसरा वो जो राहुल की साख बनाये रखना चाहता है. ऐसे में माँ बेटे आपस में लड़ना न भी चाहे तो भी पार्टी उन्हें आपस में भिड़ने पर मजबूर कर ही देगी. माहौल ही कुछ ऐसा बन रहा है.