समाजवादी पार्टी को लगा बड़ा झटका, बीजेपी की हो गयी बल्ले बल्ले

1489

यूपी की राजनीति इन दिनों पूरी तरह से एकतरफा हो चली है. जहाँ कभी समाजवादी पार्टी और बसपा दोनों सत्ता को फुटबाल बनाकर के खेला करते थे. कभी तेरे हाथ तो कभी मेरे हाथ मगर अब धीरे धीरे सब कुछ बदलता हुआ नजर आ रहा है. दोनों के ही बेस वोट बैंक खिसक गये है जिसके चलते जो लोग इन्हें एक मुश्त वोट किया करते थे उनमे से ज्यादातर लोगो ने भाजपा का दामन थाम लिया है. ये सब क्या कम था कि हाल ही के उपचुनाव में भी भाजपा ने फिर से बढ़ता बना ली है.

हमीरपुर उपचुनाव में भाजपा की जीत, कद्दावर उम्मीदवार भी सामने नही टिक पाया
फ़िलहाल देश में उपचुनावों का माहौल है और ऐसे में यूपी के हमीरपुर पर सबकी नजर थी जिसमें भारतीय जनता पार्टी के युवराज सिंह ने 74168 मत हासिल कर लिए जबकि सपा के उम्मीदवार मनोज प्रजापति को 56 हजार वोट ही मिले. वही बात करे बसपा और कांग्रेस की तो वो रेस में काफी दूर दूर तक नजर नही आ रहे थे. युवराज सिंह की जीत पर यूपी भाजपा में बड़े ही जश्न का माहौल बना हुआ है.

क्यों ख़ास है हमीरपुर उपचुनावों की जीत?
उत्तर प्रदेश में सरकार को आये हुए लगभग आधा समय बीत चुका है और जल्द ही यूपी विधानसभा चुनाव भी आयेंगे. ऐसे में उपचुनाव ही है जो सरकार के पक्ष में और विपक्ष में हवा बताते है और हमीरपुर के उपचुनाव बताते है कि भाजपा उत्तर प्रदेश में पहले से भी अधिक मजबूत हुई है. सपा कही कही टक्कर दे सकती है लेकिन बसपा और कांग्रेस का तो कोई अता पता ही नही है सो अगले यूपी विधानसभा चुनाव भी कुछ ऐसे ही होने के आसार है.

आपको बता दे जब चुनाव हुए थे तो सबको लगा था सपा बसपा शायद साथ आ जाए लेकिन लोकसभा चुनावो में जिस तरह से दोनों के महागठबंधन को करारी हर मिली थी जिसके बाद में दोनों ही अलग हो गये थे. इसके बाद में उपचुनावों के ये नतीजे आये है. खैर अब जिस तरह की तकरार अखिलेश और मायावती में हुई है उसके बाद में तो इनके साथ होने की कोई संभावना