ट्रम्प का समर्थन करके मोदी ने अपनी इस करीबी को नाराज कर दिया है

708

प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिका में काफी समय गुजारा है और ऐसे वक्त में कही न कही उन्होंने दुनिया में अपनी छाप भी छोड़ी है इस बात से कोई भी इनकार नही कर सकता है क्योंकि जिस तरह से प्रधानमंत्री मोदी ट्रम्प का हाथ थामे हुए नजर आ रहे थे वो अपने आप में गजब का था. इससे बेहतर कुछ और हो ही नही सकता है लेकिन आपको कोई एक मैदान चुनना ही पड़ता है और एक साइड होना पड़ता है ऐसे में दुसरे पक्ष के लोग थोड़े नाराज भी होते है जो प्रधानमंत्री मोदी के साथ हुआ है.

मोदी बोले अबकी बार ट्रम्प सरकार, तुलसी गैबार्ड हुई नाराज
प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रम्प की न सिर्फ तारीफे की बल्कि अबकी बार ट्रम्प सरकार कहकर के एक नया बवाल भी खड़ा कर दिया है. इससे उनकी करीबी और अमेरिकी नेता तुलसी गैबार्ड को बुरा लगा है. कई मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसा कहा गया है और ये अपने आप में चिंता का विषय भी है क्योंकि वो अमेरिका की संभावित भावी राष्ट्रपति है और ऐसे में तुलसी का नाराज होना इतनी आसानी से इग्नोर किये जाने लायक बात भी नही है.

आखिर कौन है तुलसी गैबार्ड?
भारतीय मूल की अमेरिकी नागरिक जो अमेरिका में सीनेटर रही और साथ ही साथ में अब उनकी छवि इतनी बड़ी हो चुकी है कि उन्हें डेमोक्रेट्स की तरफ से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार बनाने पर विचार चल रहा है. वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की काफी करीबी रही है, जब भी वो भारत आती है तो पीएम से जरुर मिलती है. खुदको गर्व से एक हिन्दू बताती है और हिन्दुओ की छवि खराब करने वालो को भी जवाब देने से वो पीछे नही हटती. इसके अलावा उनके संघ से भी कुछ रिश्ते बताये जाते है जिसके चलते उनकी संघ से भी करीबी है.

अब अगर ऐसी नेता है जो वाकई में भारत के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर फिट बैठती है तो फिर प्रधानमंत्री के ट्रम्प का समर्थन करने के पीछे का कारण क्या था? ये बात तो सिर्फ वही ही बता सकते है. खैर जो भी है अगले वर्ष चुनाव है और ऐसे में अमेरिकी चुनावों पर कही न कही थोडा बहुत इफ़ेक्ट भारतीय मूल के लोगो का भी पड़ता है.