राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले नरेंद्र मोदी ने बड़ा बयान दिया है

761

इन दिनों सुप्रीम कोर्ट एक केस को लेकर के बेहद ही संजीदा नजर आ रहा है और वो केस है राम मंदिर का. पिछले तीन दशको से कोर्ट के चक्कर काटते हुए फरियादियो पर आखिरकार क़ानून की दया बरस रही है और अब नियमित रूप से सुप्रीम कोर्ट की बेंच राम मंदिर पर सुनवाई कर रही है. इस पर नवम्बर मध्य तक फैसला आने की बात भी कही गयी है.सबके इस पर तमाम बयान है लेकिन मायने रखती है तो पीएम मोदी की कही हुई बाते और उन्हें जो कहना था उन्होंने खुली सभा में कह भी दिया है.

मोदी ने सभा में कहा, मंदिर के बारे में अनाप शनाप न बोले बयान बहादुर लोग
पीएम महाराष्ट्र के नासिक में महाजनादेश यात्रा समारोह को संबोधित करने के लिये गये थे जहाँ पर उन्होंने कहा ‘मैं देख रहा हूँ पिछले कुछ हफ्तों से कुछ बयान बहादुर लोग राम मंदिर के बारे में अनाप शनाप बाते बोल रहे है. भगवान् राम के लिए वो सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई में बाधा न डाले. हम सभी नागरिक सुप्रीम कोर्ट का काफी सम्मान करते है और उसमें विश्वास भी रखते है. इस फैली में जो भी भीड़ उमड़ी है वो लोकतंत्र के कुम्भ की परिचायक है.’

पहले भी राम मंदिर पर अपनी मंशा साफ़ कर चुके है मोदी
अयोध्या जन्मभूमि को लेकर के प्रधानमंत्री पहले ही साफ़ कर चुके है कि जनता की श्रीराम में अटूट आस्था है और मंदिर बनना चाहिए लेकिन उसका मार्ग सुप्रीम कोर्ट के माध्यम से ही प्रशस्त हो. सुनवाई चल रही है, कोर्ट जो भी फैसला करेगा उसके बाद में आगे की सरकार की जो भी जिम्मेदारी होगी हम लोग उसे निभाएंगे. कही न कही इसमें वो मंदिर बनाने के लिए अपनी तरफ से पूरी कमर कसी हुई दिखा रहे है.

खैर जो भी है ये अपने आप में जरूरी है कि इस केस का निपटारा हो क्योंकि जितनी देरी हो रही है लोगो का सब्र उतना ज्यादा टूटता जा रहा है और ऐसे में जनता की ऊँगली सिर्फ दो ही लोगो पर उठती है. एक तो सुप्रीम कोर्ट और दूसरी भाजपा क्योंकि यही से मंदिर बनने की उम्मीद भी है.