सावरकर को लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान

202

भारतीय राजनीतिक के इतिहास में कुछ नाम है जो वाकई में काफी ज्यादा विवादित रहे है और शायद आगे भी रहेंगे. इनमे एक नाम वीर सावरकर का भी आता है जिसे भाजपा और उनके एजेंडे वाले दल तो शुरू से पसंद करते आये है लेकिन विपक्ष और खास तौर पर कांग्रेस सावरकर की विचारधारा की अच्छी खासी आलोचक रही है. खैर बेबात की बात छोड़कर के आते है मुद्दे पर जो शिवसेना ने एक बार फिर से छेड़ दिया है. इस पर उनका विरोध हो सपोर्ट हो क्या मालूम लेकिन उद्धव ठाकरे जो मन में हो उसे बोलने से परहेज नही करते.

उद्धव ठाकरे ने कहा, अगर सावरकर बनते प्रधानमंत्री तो पाकिस्तान नही होता
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे एक आत्मकथा ‘सावरकर: एकोज फ्रॉम अ फॉरगॉटन पास्ट’ नाम की किताब का विमोचन करने के लिए आये थे जहाँ पर उन्होंने कहा ‘अगर वीर सावरकर उस समय देश के प्रधानमंत्री बने होते तो पाकिस्तान अस्तित्व में ही नही आता. मैं अपनी सरकार से गुजारिश करता हूँ कि वो वीर सावरकर को भारत रत्न से सम्मानित करे.’

नेहरु पर कसा ठाकरे ने तंज
उद्धव ठाकरे ने अपनी बात को आगे बढाते हुए कहा ‘मुझे पंडित नेहरु को भी वीर कहने से कोई गुरेज नही होता अगर वो सावरकर की तरह 14 मिनट भी जेल में रहे होते. सावरकर ने तो अपनी जिन्दगी के 14 वर्ष जेल में बिता दिये. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को इस किताब की एक प्रति दी जानी चाहिये.’ यहाँ वो राहुल गांधी पर कटाक्ष करते हुए कह रहे थे कि वो इस किताब को पढ़े ताकि उन्हें सावरकर के बारे में सही जानकारी उपलब्ध हो सके.

समय समय पर सावरकर ऐसा नाम है जो भारतीय राजनीति में उछलता ही रहता है. हर कोई उन्हें अपने एजेंडे के लिये इस्तेमाल करता है और ख़ास तौर पर ये चर्चा में तब आया जब राहुल गांधी ने सावरकर और उनकी विचारधारा के लोगो को डरपोक कहना शुरू किया और फिर बीजेपी और उनके घटक दलों ने जवाब देना शुरू किया तो सारे पंडित नेहरु खानदान ही लपेट लिये गये.