महबूबा के बाद अब फारूख अब्दुल्ला भी गिरफ्तार, अब तक सिर्फ नजरबंद थे

379

कश्मीर में जो हालात है वो किसी से भी छुपे हुए नही है. सरकार ने भारत की अखंडता का ख्याल रखते हुए बहुत ही बड़ा फैसला लिया जिसके तहत कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर के उसे केंद्र शासित प्रदेश बना दिया गया है. हालात सामान्य करने के भी प्रयास हो रहे है लेकिन कुछ लोग अपनी राजनीति के चलते चाह नही रहे है कि सब कुछ सामान्य हो जाये. ऐसी स्थिति में महबूबा और उमर तो पहले से ही गिरफ्तार है जो हम जानते है लेकिन अब फारूक अब्दुल्ला को भी हिरासत में ले लिया गया है.

घर को ही बनाया गया अस्थायी जेल, पीएसए के तहत रहेंगे बंद
जम्मू कश्मीर के सबसे बड़े नेता कहे जाने वाले फारूक अब्दुल्ला को पीएसए के तहत गिरफ्तार कर लिया गया है. माहौल खराब न हो इसलिये एक आदेश पारित करके जिस घर में वो रह रहे है उसे ही अस्थायी जेल बना दिया गया है और उन्हें जेल में रखा गया है. आपको बता दे पीएसए काफी गंभीर एक्ट है जिसे पूरे शब्दों में कहे तो पब्लिक सेफ्टी एक्ट. इसके तहत सरकार चाहे तो फारूक अब्दुल्ला को 2 साल तक ऐसे ही कानूनन बंद करके रख सकती है.

ओवेसी ने उठाये फैसले और गिरफ्तारी पर सवाल
ओवेसी कश्मीर में जो कुछ भी हो रहा है उस पर सवाल खड़े कर रहे है. उनका कहना है कि गुलाम नबी आजाद जो पूर्व सीएम है उन्हें भी कश्मीर नही जाने दिया जा रहा है और अब फारूक अब्दुल्ला के साथ जो हुआ. औवेसी ने सरकार से इस पर जवाब माँगा है और विपक्ष के लोग भी मिलकर के यही कर रहे है और सरकार का सिर्फ एक ही जवाब है कि हम जो भी कर रहे है कश्मीर की भलाई के लिये कर रहे है.

इससे पहले अमित शाह ने संसद में कहा था कि फारूक साहब को हमने अरेस्ट नही किया है बल्कि वो अपनी मर्जी से घर के अन्दर है, हम उन्हें जबरन बाहर नही ला सकते है. इसके बाद में फारूक ने छत पर आकर के अच्छा खासा ड्रामा किया था और इसके बाद में अब वो पूरी तरह से गिरफ्तार हो चुके है.