उर्मिला ने दिये कांग्रेस को बैक टू बैक झटके, कुछ वक्त पहले ही ज्वाइन की थी कांग्रेस

317

राजनीति में सितारों का आना और जाना लगा ही रहता है. कई है जिन्हें राजनीति रास आ जाती है और वो जम भी जाते है, जीत भी जाते है और कई ऐसे है जो यहाँ टिक नही पाते और वापिस लौट जाते है. हेमा मालिनी, सनी देओल से लेकर गुल पनाग जैसे कई बड़े बड़े नाम इस लिस्ट में शामिल है और अभी कुछ महीने पहले इनमे एक और बड़ा नाम शुमार हुआ था जिन्हें हम सभी उर्मिला मातोंडकर के नाम से जानते है, जिन्होंने मुंबई का भला करने के नाम पर कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की और लोकसभा चुनाव भी लड़ा और हार भी गयी.

महज 5 महीने बाद ही छोड़ दी कांग्रेस पार्टी, जाते जाते लगा गयी कई आरोप
उर्मिला मातोंडकर चुनाव हार गयी थी और इसके बाद उनका राजनीतिक भविष्य कुछ ख़ास नही होगा ये तो सभी समझ गये थे लेकिन उर्मिला इतनी जल्दी ही कांग्रेस को अलविदा कह देगी ये किसी ने भी सोचा नही होगा. उर्मिला ने 10 सितम्बर को आधिकारिक रूप से कांग्रेस पार्टी को त्याग दिया है और वापिस लौट गयी है लेकिन जाते जाते आग जरुर लगा गयी है.

उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस के प्रदेश नेतृत्व पर सवाल उठाये और उन्हें विश्वासघाती बताया. वो कहती है कि उनके निजी और गोपनीय पत्र तक लीक किये गये. शिकायत करने के बाद भी किसी तरह की कोई भी कार्यवाही नही हुई और तो और अन्दर गुटबाजी बहुत ही ज्यादा है जिसके चलते मेरे राजनीतिक और सामजिक लक्ष्यों को हासिल कर पाना मेरे लिए बेहद ही मुश्किल है. अब जाते जाते उर्मिला ने महाराष्ट्र कांग्रेस की इतनी कमियां मीडिया में गिना दी है जिन्हें वो लोग समेटेंगे तो सही लेकिन चुनाव में बुरा असर भी झेलेंगे.

उर्मिला ने एक जम्मू कश्मीर के मुस्लिम बिजनेसमेन से शादी की थी जिसके बाद में उन्होंने राजनीति में आने का भी निर्णय लिया. उर्मिला ने कांग्रेस पार्टी को चुना और बड़े धूमधाम के साथ में उनका स्वागत भी हुआ लेकिन चुनावी नतीजो के साथ ही साथ में उर्मिला की सारी लोकप्रियता एक झटके में फुस्स हो गयी.