कुछ दिन पहले 370 पर साथ खड़े होने वाली शिवसेना भाजपा अब इस वजह से आपस में लड़ पड़ी है

369

भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना दोनों ही बहुत ही पुराने साथी रहे है. दोनों ही पार्टियों की विचारधारा भी काफी हद तक मिलती हुई नजर आती है इसमें कोई भी शक नही है लेकिन विचार एक जगह है और सत्ता दूसरी जगह ये भी तो मानना ही पड़ेगा. अब बीजेपी और शिवसेना के बीच में भी महाराष्ट्र में सत्ता को लेकर के एक संघर्ष शुरू हो गया है जहाँ पर दोनों ही पार्टियां बड़ा भाई बनने की कोशिश में है और अगर ये सफल नही होता है तो अलग अलग चुनाव लड़ने की भी बात हो रही है.

शिवसेना चाहती है आधी आधी सीट्स, बीजेपी राजी नही
शिवसेना का कहना है कि दोनों ही पार्टियों में टिकट का बंटवारा आधी आधी सीट्स पर हो लेकिन भाजपा इस पर राजी नही है.भाजपा का कहना है कि 180 सीट्स वो रखेंगे और 108 सीट्स शिवसेना को दी जायेगी लेकिन शिवसेना का कहना है दोनों ही पार्टियां 144-144 सीट्स पर ही चुनाव लड़ेगी. दोनों ही पार्टियां अपना अपना मुख्यमंत्री बनाने पर भी अड़ चुकी है जो आपसी कलह को और भी ज्यादा बड़े स्तर पर ले जा सकता है.

चंद्रकांत पाटिल के संदेहास्पद बयान से खफा शिवसेना, अलग भी लड़ सकती है चुनाव
भाजपा नेताओं के बयान भी इन दिनों में कुछ ऐसे ही आ रहे है. महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने तो ये तक कह दिया कि हम 135 से ज्यादा सीट्स जीतेंगे. अब इस बयान से मायने तो यही निकलते है कि वो शिवसेना को कम सीट्स देना चाहते है और ये बात शिवसेना को मंजूर नही. ऐसे में सूत्र ये बताते है कि अगर बीजेपी उनकी शर्तो पर राजी नही होती है तो फिर शिवसेना अलग से ही पूरा चुनाव लड़ सकती है. पूरी 288 विधानसभा सीट्स पर प्रत्याशियों के लिए वो मंथन में भी लग चुके है.

दोनों ही घटक दलों के यूँ आमने सामने होने से जाहिर तौर पर दोनों के वोट बाँटेंगे और इसका फायदा दो विरोधी पार्टियों कांग्रेस और मनसे को होगा जो कही से भी एनडीए के लिये तो अच्छा संकेत नही है. मगर अब शिवसेना अपने शर्तो पर अड़ चुकी है और समझौता करने को तैयार नही है.