ड्राईवर के बच्चो को भी अपने बच्चो की स्कूल में पढ़ाते थे जेटली, जानिये उनकी 5 बड़ी ख़ास बातें

211

हिन्दुस्तान काफी बड़ा मुल्क है और यहाँ पर हजारो नेता पैदा होते और खत्म होते रहते है लेकिन कुछ ऐसे होते है जो लोगो के दिलो में हमेशा के लिये घर बना जाते है. उनमे से एक नाम है अरुण जेटली. जिनका योगदान न सिर्फ हिन्दुस्तान की अर्थव्यवस्था में बल्कि अपने आस पास जीने वाले लोगो की जिन्दगी में भी खूब रहा. इस वजह से जब उनकी पार्थिव देह को ले जाया जा रहा था तो लोगो की आँखों में आंसू थे. सोशल मीडिया पर उनके चाहने वालो की तो मानो बाढ़ ही उमड़ आयी थी.

अरुण जेटली असल में अपने चाहने वालो और करीबियों के लिये क्या थे? ये आज हम आपको जो बातें बतायेंगे उसी से आपको मालूम चल जाएगा और ये आपका दिल भी जीत लेगा ये हमारा भरोसा है क्योंकि ये कोई बड़ी बाते नही बल्कि उनके नौकरों और दोस्तों से जुडी घटनाये है, जो उनके निजी व्यक्तित्व को उजागर करती है.

  1. अरुण जेटली के बच्चे चाणक्यपुरी के कान्वेंट स्कूल में पढ़ा करते थे. उन्होंने जिस स्कूल में अपने बच्चो को पढ़ाया उनके यहाँ काम करने वाले ड्राईवर या हेल्पर सभी के बच्चे भी वो वही पर पढ़ाते थे और उनकी फीस भी दे देते थे.
  2. जो बच्चे उन्हें होशियार लगते थे उन्हें वो विदेश में पढ़ाई करने और उनका करियर बनाने में भी मदद करते थे. आज भी उनके स्टाफ में से दो से तीन बच्चे विदेशो में पढ़ रहे है.
  3. अरुण जेटली अपने बच्चो को जब पॉकेटमनी के पैसे देते थे तो घर पर काम करने वाले बच्चो को भी पैसे दिया करते थे लेकिन ये सब पैसा वो चेक से दिया करते थे. बच्चो को बैंक जाकर के चेक क्लियर करवाकर के पैसा निकलवाना होता था. इससे वो बैंक की समझ में भी तेज बनते थे.
  4. अरुण जेटली लोगो की मदद करने के लिए हमेशा आगे रहते थे. कॉलेज में एक बच्चे की फीस में कुछ तीन से चार रूपये कम पड़ रहे थे. ये आज से 40 साल पहले की बात है तो उन्होंने जाकर के उसके पैसे दे दिये और आज वो उनके ख़ास दोस्त रजत शर्मा है, जो इंडिया टीवी चैनल चलाते है.
  5. अरुण जेटली को सरकारी चीजो से कोई भी मोह नही था. जैसे ही उनकी सरकार का कार्यकाल खत्म हुआ उन्होंने तुरंत अपना सरकारी बँगला खाली कर दिया जबकि बाकी सांसद पांच से दस सालो तक उसी बंगले में जमे रहते है और सुविधाओं के मजे लेते है.

अरुण जेटली की जिन्दगी से जुडी ऐसी कई बाते है जो उनका दिल में लोगो के लिए एक अलग ही स्थान बनाती है जो शायद बाकी के नेता कभी भी नही बना पाएंगे क्योंकि वो उनके जैसी जिन्दगी जी भी नही सकते.