चिदंबरम के बाद अब एनडीटीवी के मालिक पर CBI का शिकंजा, केस दर्ज हुआ

371

अभी हाल ही में चिदम्बरम के साथ में जो कुछ भी हुआ वो तो सभी देखा ही देखा. हर कोई हैरान भी है क्योंकि देश के वित्त मंत्री और गृहमंत्री जैसे सम्मानित पदों पर रहा एक व्यक्ति भ्रष्टाचार का आरोपी पाया जाए तो किसी का भी सरकारों पर से भरोसा सा उठने लग जाता है और इसमें कोई शक वाली बात भी नही है. खैर चिदम्बरम को तो रिमांड में भेज दिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है लेकिन कोई और भी है जो इन दिनों सबसे ज्यादा टेंशन में है और वो है एनडीटीवी के मालिक प्रणव रॉय.

विदेशो से गैरकानूनी तरीके से पैसे जुटाकर लाने के आरोप, जांच में जुटी एजेंसी
प्रणव रॉय और उनकी पत्नी राधिका रॉय जो एनडीटीवी चलाते है उनके खिलाफ सीबीआई ने एफआईआर दर्ज की है जिसमे उन पर आरोप तय हुए है कि सन 2004 से 2010 के बीच में एनडीटीवी ने अलग अलग देशो में 32 सहायक कम्पनियां खड़ी कर दी जहां पर बिलकुल भी न के बाराबर टैक्स लगता है लेकिन उन कम्पनियों ने कोई भी व्यापार नही किया बल्कि इन कम्पनियों में विदेशी पैसा लिया गया. संभवत कुछ सरकारी अधिकारी भी इसमें शामिल थे.

इसके बाद में एनडीटीवी ने इन सब स्त्रोतों के जरिये गलत तरीके से पैसा जुटाया और उसे फिर यहाँ पर लाकर के अपनी संपदा को बढाने में इस्तेमाल किया गया. ये बहुत ही बड़े स्तर का उच्च स्तरीय घालमेल नजर आता है जिस पर सीबीआई जांच कर रही है. अगर इस मसले पर कोई पक्के सबूत मिलते है तो प्रणव रॉय और राधिका रॉय भी चिदम्बरम की ही तरह गिरफ्तार किये जा सकते है जो अपने आप में एनडीटीवी के लिए बहुत ही बड़ा झटका होगा.

खैर अभी तो जांच चल रही है और कुछ कहा नही जा सकता है. वही एनडीटीवी ने इसे प्रेस की अजादी पर ही हमला बता दिया है. अब बागो में बहार है या फिर नही है ये तो रवीश कुमार ही बता पायेंगे क्योंकि एनडीटीवी को फंड करने वालो की ये हालत होगी तो चैनल का चल पाना भी मुश्किल होगा.