बड़े दिग्गज नेता का निधन, घर पर श्रद्धान्जलि देने पहुँच रहे बड़े बड़े राजनीतिक पदाधिकारी

1003

इन दिनो में राजनीतिक गलियारों में कोई भी शुभ संकेत तो बिलकुल भी नही मिल रहे है क्योंकि कुछ समय पहले ही दिल्ली की दो पूर्व मुख्य्मंत्न्रियो का निधन हो गया जिसमे से एक तो विदेश मंत्री भी रह चुकी है. हम बात कर रहे है शीला दीक्षित और सुषमा स्वराज की. इसके बाद अरुण जेटली के लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर होने की खबर भी दिल को पसीजा देती है.इसके बाद में अब बिहार की राजनीति से उपजे धुरंधर को चले जाना उनके कई प्रशंसको को काफी ज्यादा हैरान कर रहा है. मगर यही तो अंतिम सत्य है.

तीन बार बिहार के मुख्यमंत्री रहे जगन्नाथ मिश्रा का निधन
जगन्नाथ मिश्रा ने आज ही ढलते दिन के साथ में अपने दिल्ली में द्वारका स्थित फ्लैट में प्राण त्याग दिये तभी उन्होंने अपने प्राण त्याग दिये. उनके देहांत की खबर सुनते ही कई बड़े बड़े राजनीतिक लोग ख़ास तौर पर कांग्रेस से उनके घर पर पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजली अर्पित की. सोशल मीडिया से भी नीति कुमार समेत कई नेताओं ने अपनी अपनी तरफ से उनके देहांत पर शोक प्रकट किया है.

बिहार के कद्दावर नेता मगर घोटालो के भी आरोपी
वो दौर था नीतीश से लेकर लालू तक का बिहार की राजनीति में अच्छा खासा रोल रहा है लेकिन इन सबसे भी ऊपर नाम आता है जगन्नाथ मिश्रा का जो अपने आप में अच्छी खासी पकड़ रखते थे. इस कारण वो बिहार में एक दो नही बल्कि तीन तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके है. केंद्र की कमान तक उनके प्रभाव क्षेत्र में आने लगी थी. हालांकि उनका राजनीतिक जीवन कोई पाक साफ़ तो नही था. उन पर भी चारा घोटाले का आरोप लगा जिसके चलते उनपर कोर्ट ने न सिर्फ जुर्माना लगाया बल्कि उन्हें जेल भी जाना पड़ा. हालांकि किसी तरह से वो जमानत से बाहर जरुर आ गये ये गनीमत रही.

इस पूरे वाकिये के बाद से ही वो दिल्ली में रहे और अपनी बची कुची जिन्दगी थोड़े अकेलेपन में ही गुजारते रहे. बिहार में उनके निधन पर तीन दिन का राजकीय शोक भी घोषित किया गया है. दामन पर कई दाग होने के बावजूद वो लाखो लोगो के दिलो पर राज करते है ये बात कोई टाल नही सकता है.