धारा 370 हटाने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हो गयी, देखिये कोर्ट ने क्या कहा?

994

मोदी सरकार का हाल ही में कश्मीर को लेकर के बहुत ही बड़ा फैसला आया है. सरकार ने अनुच्छेद 370 जो पिछले लम्बे समय से कश्मीर में लगा हुआ था और देश में लम्बे समय से एक मांग भी उठी थी कि किसी न किसी तरह से इसे हटाया जाए. सरकार ने इस पर काम करते हुए इस अनुच्छेद को कश्मीर से हटा दिया लेकिन अब आगे की राहे भी कोई आसान तो नही है क्योंकि जो सरकार के इस फैसले के खिलाफ है वो लोग इसके फैसले के विरोध में सुप्रीम कोर्ट पहुँच गये है.

वकील एमएल शर्मा ने दायर की थी याचिका
पहले भी निर्भया के दोषियों का केस लड़कर लोगो की आलोचना का शिकार हो चुके वकील एमएल शर्मा ने सरकार ने कहा कि सरकार का ये फैसला बिलकुल ही असंवैधानिक है और वो इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका लेकर के पहुँच गये. उन्होंने सरकार द्वारा फैसले किये जाने के महज 4 दिनों के भीतर ही कोर्ट जाने का फैसला कर लिया था, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने 16 जुलाई को सुनवाई की तारीख मुकर्रर की थी.

सुनवाई के दौरान पड़ी फटकार, कोर्ट ने पूछा ‘ये किस तरह की याचिका है?’
सुनवाई के पहले दिन ही सुप्रीम कोर्ट ने कह दिय कि ये किस तरह की याचिका है? आप क्या कहना चाह रहे हो हमें तो कुछ समझ नही आ रहा है. कोर्ट ने एमएल शर्मा को कड़ी फटकार लगाते हुए याचिका को दुबारा से संसोधित करके लाने को कहा और कहा इस तरह से करोगे जब आपके पास कहने को कोई बेस ही नही होगा तो टेक्निकल ग्राउंड पर ये याचिका खारिच भो जायेगी. हम चाहे तो इस याचिका को रद्द भी कर सकते है लेकिन इससे दूसरी याचिकाओं पर असर पड़ेगा इसलिये पहले सोचो समझो और फिर बताओ कहना क्या चाह रहे हो?

अब कोर्ट ने निर्णय लिया है कि सरकार के इस फैसले के खिलाफ जितनी भी याचिकाये है उन सभी को एक साथ में सुना जाएगा और फैसला दिया जाएगा. ऐसे में जो भी लोग सपना संजो रहे थे कि उन्हें सुप्रीम कोर्ट से कोई राहत मिलेगी उनके सपने पूरी तरह से चूर चूर हो गये है.