पाक और चीन ने मिलकर रची अब ये नयी चाल, संयुक्त राष्ट्र से की कश्मीर पर नयी मांग

980

अक्सर दुनिया में जब लोग बिलकुल शान्ति से इस विश्व में रह रहे होते है तब ही कई मुल्क ऐसे होते है जब उन्हें दुसरे का चैन से रहना रास नही आता है और उनमे से ही एक देश चीन भी है. चीन और पाक दोनों ही मिलकर के किसी न किसी तरह से भारत को परेशान करने की हर संभव कोशिश करते है क्योंकि वो कुछ बिगाड़ तो सकते नही है तो जो हो सकता है वो तो किया जाए और एक बार फिर से इन्होने आजादी दिवस के शुभ मौके पर एक विघ्न डालने की नाकाम कोशिश की है.

चीन ने पाकिस्तान के इशारे पर की कश्मीर मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् की गुप्त बैठक बुलाने की मांग
भारत द्वारा कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाये जाने के बाद में पाक से खुद कुछ उखड नही सका तो वो चीन के पास जा पहुंचा और चीन ने अब पाक के इशारे पर संयुक्त राष्ट्र के अध्यक्ष से एक गुप्त मीटिंग सुरक्षा परिषद् की बुलाने के लिए आग्रह किया है जिसमे कश्मीर के मसले पर चर्चा की जाये. चीन ये सब ड्रामेबाजी करके भारत पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है.

क्या इससे कोई फर्क पड़ेगा?
जहाँ तक बात की जाये फर्क पड़ने की तो भारत को इससे कोई भी फर्क नही पड़ेगा क्योंकि पूरे विश्व में महज इक्के दुक्के देश ही है जो कश्मीर मसले पर पाक का समर्थन करते है और अगर चीन सुरक्षा परिषद् की मीटिंग बुलाता भी है तो उसमे भारत के दोस्त अमेरिका, रूस और अन्य देश भी मौजूद होंगे जो न तो चीन की किसी बात का समर्थन करेंगे और न ही किसी रिजोल्यूशन को सपोर्ट करेंगे तो ऐसे में इसे एक तरह की ड्रामेबाजी के अलावा और कुछ भी नही कहा जा सकता है जो चीन पाक को दिखाने के लिए कर रहा है.

हालांकि भारत के विदेश मंत्री ने चीन से मिलकर के साफ़ किया था कि सीमाये वही है मगर चीन ने पाकिस्तान की ही पीपड़ी बजायी क्योंकि पाक अपनी लडकियों को चीन में ब्याह रहा है, उन्हें अपनी जमीन दे रहा है और काफी कुछ चीन के फेवर में कर रहा है.