कांग्रेस नेता शशि थरूर के खिलाफ कोर्ट ने जारी किया गिरफ्तारी वारंट

182

फ़िलहाल देश काफी संवेदनशील परिस्थिति से गुजर रहा है क्योंकि सर्कार ने कुछ ऐसे बड़े फैसले लिये है जो अपने आप में बेंचमार्क है लेकिन इन्हें लेकर के संभलने में थोडा सा वक्त तो लगेगा लेकिन ऐसे समय में भी विपक्ष एक जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका न निभाकर के शरारती तत्वों की तरह बर्ताव कर रहा है जिसका काम सिर्फ और सिर्फ सरकार को परेशान करना और उसके मामले में टांग अड़ाना है. अब ऐसी ही हरकत करते करते शशि थरूर काफी बुरे फंस भी गये है.

संविधान और भाजपा को लेकर दिया था आपत्तिजनक बयान, कोर्ट ने चलाया हथौड़ा
रिपोर्ट के अनुसार शशि थरूर ने बयान देते हुए कहा था कि अगर भारतीय जनता पार्टी सत्ता में आती है तो वो अपना खुदका नया संविधान लिखेगी और एक हिन्दू पाकिस्तान बना देगी. इस पर आपत्ति जताते हुए वकील सुमित चौधरी ने उनके खिलाफ याचिका दायर की थी और सीएमएम कोर्ट ने उसे एक्सेप्ट भी कर लिया. सुमित चौधरी ने इस पूरे मामले को बेहद ही गंभीर बताया है और इसके खिलाफ कार्यवाही को भी आवश्यक माना है.

इसके बाद कोर्ट ने इस पर सुनवाई करते हुए मजिस्ट्रेट दिपंजन सेन ने ने सुनवाई की और कार्यवाही करते हुए शशि थरूर के खिलाफ जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. यानी वो चाहे तो अपने निजी मुचलके पर जमानत लेकर के जेल जाने से बच सकते है लेकिन मुचलका नही लेने पर उन्हें जेल में जाना होगा. यही नही इस मामले की अगली सुनवाई दिसम्बर महीने में तय की गयी है जिसमे शशि थरूर को भी हाजिर होना रहेगा तो ये उनके लिए काफी बड़ी समस्या है और शायद इस वाकिये के बाद में वो बोलने से पहले एक दो दफा जरुर सोचेंगे.

पहले से ही काफी  मुकदमे झेल रहे है
ऐसा नही है शशि थरूर पहली बार ऐसा कोई केस देख रहे है. सुनंदा पुष्कर मसले से लेकर उनपर कई बार पुलिस कम्पलेन और कोर्ट केस चल चुके है मगर धीरे धीरे वो सबसे अपनी बुद्धिमता और धनबल के सहारे पार पा ही लेते है.