धारा 370 के हटते ही देश भर में पढने वाले कश्मीरी छात्रो के लिये भी आ गये सरकारी निर्देश

741

भारत सरकार ने हाल ही में एक बहुत ही बड़ा और संवेदनशील फैसला लिया है. गत 70 सालो से विवादित धाराओं में बंद कश्मीर को आखिरकार आजाद करवा ही दिया गया और अब वो एक केंद्र शासित प्रदेश है. फ़िलहाल माहौल खराब होने से बचाने के लिये वहाँ पर अच्छी खासी फ़ोर्स तैनात कर दी गयी है और सब कुछ ठीक है मगर सवाल ये भी है कि जो कश्मीरी छात्र बाहर पढ़ रहे है उनका क्या? कही वो कुछ गड़बड़ कर दे या फिर उनके साथ कोई भी गडबड न हो जाए इसके लिए प्रशासन और सरकार सतर्क हो गयी है.

कश्मीरी छात्रो को केम्पस या हॉस्टल से बाहर न जाने को कहा गया, कोई विवादित टिपण्णी भी न करे
कश्मीरी छात्रो को एएमयू समेत कई यूनिवर्सिटीज की तरफ से कहा गया है कि फ़िलहाल के लिये वो केम्पस से या फिर हॉस्टल से बाहर न जाये और सुरक्षित माहौल में ही रहे. उन्हें सोशल मीडिया पर भी कुछ विवादित टिपण्णी करने से बचने के लिये कहा गया है क्योंकि इससे पहले पुलवामा के समय कुछ कमेंट्स की वजह से लोगो ने उन्हें घेर लिया था और पुलिस केस भी हुए थे.

सरकारों ने दिये उनकी सुरक्षा के लिये निर्देश
राज्य सरकारों ने भी सीनियर अधिकारियों को जिम्मा सौंपा है और कहा है कि वो भी भारत के ही नागरिक है इसलिये उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की जाये. योगी आदित्यनाथ ने जहाँ सुरक्षा पर स्पेशल जायजा लिया है वही हिसार में भी ड्यूटी मजिस्ट्रेट लगाये गये है. इसके अलावा AICTE ने भी प्रिंसिपलो और को ओर्डीनेटर्स को निर्देश देते हुए उनके संपर्क में रहने और उनकी सेफ्टी को संज्ञान में लेने के लिए कहा है. इस तरह से हर तरफ से जो भी कवायद की जानी चाहिये जिससे देश का माहौल न बिगड़े वो की जा रही है.

जिस तरह से इस धारा को हटाया गया और उसके बाद में एक छोटा सा भी किस्सा जिसमे कोई जानमाल का नुकसान हो वो देखने में नही आया उसे लेकर के सरकार की सोशल मीडिया पर अच्छी खासी तारीफ़ हो रही है. हर कोई कह रहा है जिस तरह से मामले को हल किया गया वो काफी सराहनीय है.