कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद पीओके पर भी बोले अमित शाह, घबराया पाक

575

फ़िलहाल देश में हालात सामान्य हो रहे है जो कि कुछ समय पहले नही थे. सरकार ने कई बड़े बड़े कश्मीरी नेताओं को नजरबंद कर दिया था. कोई भी अपनी मर्जी से घर से बाहर भी नही निकल पा रहा था और ये हालात कश्मीर में अभी भी कई जगहों पर है क्योंकि धारा 370 हटा दी गयी है जिसे कश्मीर के कुछ लोग हटाना नही चाह रहे थे. अब इस फैसले के बाद में सरकार को संसद में जवाब भी देना था और इस मोर्चे को गृहमंत्री अमित शाह पिछले दो दिन से लगातार संभाले हुए है.

कांग्रेस नेता अधिरंजन चौधरी ने पूछा था सवाल
कांग्रेस ने लोकसभा में चर्चा के दौरान पूछा कि जब मामला यूएन में है तो क्या ऐसे में भारत कश्मीर पर ऐसा फैसला लेने के लिये अधिकृत है और क्या सिर्फ इतने कश्मीर पर बात करके बीजेपी सरकार पीओके पर कुछ नही कर रही है या फिर कोई स्टैंड नही रखती है? अधिरंजन चौधरी ने अप्रत्यक्ष रूप से आरोप लगाया कि बीजेपी की गलती की वजह से पीओके पर भारत का क्लेम खत्म हो सकता है.

अमित शाह के जवाब पर बजी सदन में तालियाँ
अमित शाह ने पहले तो साफ़ किया कि क़ानून के हिसाब से जम्मू कश्मीर भारत का 15वा राज्य है और इस हिसाब से हमारी संसद इस पर क़ानून बनाने के लिये अधिकृत है. रही बात पीओके की तो पीओके हमारे एजेंडे में है और आगे भी रहेगा. जब मैं जम्मू और कश्मीर कहता हूँ तो उसमे पाकिस्तान द्वारा कब्जाया हुआ कश्मीर भी आता है. हम उसे वापिस हासिल करने के लिये अपनी जान भी दे देंगे लेकिन उसे लेकर रहेंगे. सिर्फ पीओके ही नही बल्कि अक्साई चिन भी भारत का अभिन्न अंग है. अमित शाह के इस बयान के बाद में कांग्रेस की तरफ से इस मुद्दे पर कोई भी बोल ही नही पाया.

देश के गृहमंत्री का संसद में इस तरह से पीओके को अपना एजेंडा बताना और उसे हासिल करने के लिए जान तक दे देने की बात करना बताता है भारत भविष्य में बहुत ही बड़े बड़े कदम उठाने जा रहा है और इससे पाक में घबराहट होनी लाजमी सी बात है.