महबूबा मुफ़्ती और उमर अब्दुल्ला गिरफ्तार, उठा ले गयी पुलिस और फ़ौज

503

जम्मू कश्मीर में फ़िलहाल माहौल बेहद ही गरम हो रखा है. कल देर रात को उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती दोनों को ही घर में नजरबंद कर दिया गया. सवेरे सवेरे पूरे संसद में गहमा गहमी बनी रही क्योंकि कभी पीएम अमित शाह से मिल रहे थे तो कभी क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद से. पूरे दिन सब कुछ पूरी तरह से सस्पेंस में चला और किसी को भी पता नही चला कि क्या हो रहा है? लेकिन तभी सुबह 11 बजे अमित शाह ने सदन को जानकारी दी कि अब इस धारा 370 को हम राष्ट्रपति के आदेश से खत्म करवा रहे है. पूरे देश में कही ख़ुशी तो कही हो हल्ला भी मचा.

रात होते होते गिरफ्तार हो गये महबूबा और उमर
पूरे दिन सदन में चर्चा चली और देखते ही देखते सरकार को सदन में जो कार्यवाही करनी थी वो कार्यवाही कर दी लेकिन अब शाम ढलते ही वो हुआ जो महबूबा मुफ़्ती ने शायद सोचा भी न होगा. महबूबा मुफ़्ती और उमर अब्दुल्लाह दोनों को ही उनके घर से गिरफ्तार कर लिया गया है और उन्हें एक गेस्ट हाउस में ले जाकर के रखा जायेगा. जिसकी सुरक्षा जवानो के द्वारा की जायेगी.

अचानक से क्यों हुई गिरफ्तारी?
सदन में जो कुछ भी हुआ उसके बाद में माहौल बिगाड़ने की कोशिशे नजर आने लगी जहाँ महबूबा मुफ़्ती ने लगातार ट्विटर के माध्यम से सरकार के इस कदम की आलोचना की. इसे लोकतंत्र के इतिहास का काला दिन बताया गया और यही नही महबूबा मुफ़्ती ने एक ऑडियो भी जारी किया जिसमे वो कहते हुए नजर आ रही है कि भारत के साथ में जुड़ना हमारी गलती थी. इस पूरे घटनाक्रम के बाद में कश्मीर में माहौल बिगड़ सकता है जिसके चलते महबूबा और उमर दोनों को ही पुलिस ने एक गेस्ट हाउस में गिरफ्तार करके रखा है. इससे पहले वो सिर्फ नजरबंद किये गये थे.

अब संभव है कि जब तक पूरा मामला शांत नही हो जाता है तब तक उन्हें पकड़ कर के ही रखा जाये क्योंकि सरकार ने एक बेहद ही अच्छे तरीके से पूरे मामले को फ़िलहाल तो संभाल रखा है मगर भविष्य के लिए भी इसमें एहतियात बरतनी बेहद ही जरूरी है.