धारा 370 हटने के बाद महबूबा मुफ़्ती का बड़ा बयान

1239

पिछले काफी लम्बे अरसे से कश्मीर में बहुत ही तेजी से कुछ एक डेवलपमेंट हो रहे थे जिन्हें लेकर के अंदाजा भी लग चुका था कि सरकार के मन में कुछ तो है और उसे ही वो साधने की कोशिश कर रही है. आज सुबह 11 बजे सरकार ने एक बहुत ही बड़ी घोषणा की लेकिन उससे पहले सारी तैयारी भी कर दी गयी जिसके तहत टूरिस्ट्स को कश्मीर से निकाल दिया गया, आर्मी को अलर्ट किया गया और धारा 144 भी लगाने के साथ महबूबा मुफ़्ती जैसे बड़े नेताओ को नजरबंद कर दिया गया है ताकि वो माहौल खराब न कर सके.

11 से 12 बजे के बीच बोले शाह, कश्मीर से धारा 370 हटाने के साथ उसे केंद्रशासित प्रदेश भी बनाया
राज्यसभा में गृहमंत्री 11 बजे पहुंचे और बड़े हंगामे के बीच में उन्होंने पूरे सदन को जानकारी दी कि सरकार ने 370 हटाने के लिये संकल्प पेश कर दिया है. राष्ट्रपति द्वारा नोटिफिकेशन जारी करके उनके हस्ताक्षर होते ही ये हटा दी जायेगी. इसके अलावा अब लद्दाख अलग होगा और जम्मू कश्मीर अलग होगा. दोनों को ही केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया है जहाँ पर सारा कामकाज केंद्र सरकार ही देखेगी.

महबूबा मुफ़्ती ने बोले तीखे बोल
महबूबा मुफ़्ती को घर में बंद कर दिया गया है उनके पास संभावित तौर पर फोन भी नही है लेकिन उनके ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किये गये है जिसमे कहा गया ‘आज भारतीय लोकतंत्र का काला दिन है. जम्मू कश्मीर की लीडरशिप जिसने भारत के साथ 1947 में सम्बन्ध जोड़ा था उनके साथ धोखा हुआ है. ये पूरी तरह से असवैधानिक है और गैरकानूनी है जिससे भारत का जम्मू कश्मीर पर जबरन कब्जा माना जाएगा’. महबूबा मुफ़्ती ने ये भी कहा है कि इसके भविष्य में गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे.

सिर्फ महबूबा ही नही बल्कि बाकी कश्मीरी नेताओं का ये ही हाल है. पीडीपी के प्रवक्ता ने इस पूरी घटना का विरोध किया है तो संसद में मौजूद पीडीपी के ही सांसद ने भी अपने कपडे फाड़कर अपना विरोध दर्ज करवाया. गुलाम नबी आजाद ने तो मीडिया से बात करके अपनी नाराजगी जाहिर की है.