धारा 370 हटने के बाद कश्मीर में ये 7 चीजे हमेशा के लिये बदल जायेगी

822

कश्मीर में आजादी के 70 सालो के बाद में वो किया गया जिसके बारे में अक्सर सिर्फ और सिर्फ बाते की जाती थी लेकिन आखिरकार भारतीय जनता पार्टी ने अपना वादा निभाया और 5 जुलाई को इसे हटाने की कवायद शुरू कर दी गयी. हालांकि इसकी कवायद पिछले एक हफ्ते से शुरू कर दी गयी थी. कश्मीर से सभी गैर कश्मीरी स्टूडेंट्स और टूरिस्ट्स को निकाल दिया गया, सारे नेताओं को नजरबंद कर दिया गया, मोबाइल सेवाये रोक दी गयी और तो और धारा 144 लगा दी गयी जिसके बाद तय हो गया कि आज संसद में कुछ बहुत ही बड़ा होने जा रहा है.

सुबह के लगभग साढ़े 11 बजे गृहमंत्री अमित शाह ने जानकारी दी कि सरकार की तरफ से अब अनुच्छेद 370 नही रहा. अब बस राष्ट्रपति एक नोटिफिकेशन जारी करके उसे हटा देंगे यानी उनकी सहमती मिलनी है जो मिल भी गयी समझो लें इस धारा के हटने के बाद में क्या बदलाव आयेंगे? चलिये वो भी जान और अच्छे से समझ लेते है.

  1. जम्मू कश्मीर के नागरिको को अब दोहरी नागरिकता नही मिलेगी पहले वहाँ के नागरिको को दोहरी नागरिकता मिलती थी लेकिन अब वो सिर्फ और सिर्फ भारतीय ही रहेंगे, अगर वो किसी और देश की नागरिकता लेना चाहे तो उन्हें भारत छोड़कर के जाना पड़ेगा और जम्मू की अपनी कोई नागरिकता नही होने वाली है.
  2. जम्मू कश्मीर का अब कोई भी अलग संविधान नही होगा, अब पूरे सूबे में सिर्फ और सिर्फ केंद्र का क़ानून और भारत का संविधान ही चलेगा.
  3. पहले जम्मू कश्मीर के पास में अपना अलग झंडा था लेकिन अब ऐसा नही होगा. अब पूरे राज्य में सिर्फ और सिर्फ तिरंगा ही लहराया जा सकेगा.
  4. अब जम्मू कश्मीर में सुप्रीम सिर्फ और सिर्फ संसद ही होगी. विधानसभा के पास में कोई भी ताकत नही बची है, सारे फैसले मुख्य तौर पर संसद की मर्जी से ही होंगे.
  5. अब जम्मू कश्मीर से बाहर के लोग भी वहां पर सम्पति खरीद सकेंगे, वहाँ पर रह सकेंगे और वहाँ पर व्यापार भी कर सकेंगे.
  6. पहले राज्य में राज्यपाल शासन लगता था और उसके पास ही सारे अधिकार होते थे लेकिन वहाँ पर राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकेगा जैसे बाकी राज्यों में लगता है.
  7. पहले जम्मू कश्मीर में अल्पसंख्यक लोगो को आरक्षण नही दिया जा सकता था लेकिन अब उन्हें आरक्षण दिया जा सकेगा.

ये मोटी मोटी 7 बाते है जो जम्मू कश्मीर में लागू हो जायेगी और इससे वहाँ के जो भी लोकल नेता है, चाहे वो किसी भी पार्टी के हो उन सभी की ताकत न के बराबर ही रह जायेगी और शायद इसी वजह से वो विरोध कर रहे है.