कश्मीर पर डोभाल के साथ हाई लेवल मीटिंग में अमित शाह, सत्र खत्म करके घाटी जा रहे है

254

फ़िलहाल गृह मंत्री अमित शाह पूरी घाटी के हालात पर नजर बनाये हुए है. जिस तरह की स्थिति जम्मू कश्मीर में बनी है वो पिछले 30 सालो में पहली बार है क्योंकि इस तरह से कभी भी कश्मीर में एक साथ इतने हजार सैनिको को तैनात नही किया गया और न ही कभी अचानक यूँ एडवायजरी जारी करके सभी टूरिस्ट्स को कश्मीर से बाहर निकाला गया. कहा जा रहा है एनआईटी के भी सभी गैर कश्मीरी स्टूडेंट्स अब बाहर जा चुके है. इन सबके बीच में अब एक और खबर आ रही है जो काफी चौंकाने वाली है.

गृह सचिव और एनएसए डोभाल के साथ हाई लेवल मीटिंग में अमित शाह
देश के गृहमंत्री शाह ने गृह सचिव राजीव गाबा और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ में मीटिंग कर रहे है जहाँ पर वो कश्मीर के हालात का पूरे तरीके से जायजा ले रहे है. आपको बता दे अजीत डोभाल पिछले लम्बे समय से कश्मीर में ही थे, उन्होंने आर्मी चीफ विपिन रावत से पूरे मामले की जानकारी एक गुप्त मीटिंग में ली थी और अब वो सारा मसला अमित शाह को समझा रहे है.

इस मीटिंग के बाद अमित शाह देंगे पीएम केबिनेट मीटिंग में पूरी जानकारी, लिये जा सकते है फैसले
पूरा डाटा और हालातो की जानकारी के बाद में अमित शाह अगले दिन यानी 5 अगस्त को प्रधानमंत्री केबिनेट की बैठक का हिस्सा होंगे जहाँ भी इसी पर चर्चा होगी और अमित शाह सारी जानकारी उनके सामने रखेंगे और आगे क्या किया जाना है? इस पर भी चर्चा की जायेगी. अब सवाल ये उठता है कि आखिर इनके बाद फैसले क्या लिए जायंगे? ये भी अपने आप में एक अबूझ पहेली सी बन चुकी है.

इसके पीछे तीन कारण हो सकते है या तो कश्मीर से विवादित धाराए हटाई जा सकती है, या फिर जम्मू कश्मीर में परिसीमन करके जम्मू को अधिक विधानसभा सीट्स दी जा सकती है जिससे कि सरकार जम्मू के फेवर की बने न कि कश्मीर के फेवर की बने और अंत में ये कयास भी लगाये जा रहे है कि कश्मीर और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश में तब्दील किया जा सकता है और जम्मू अलग राज्य होगा. जो भी परिणाम है अगले 24 घंटे में देश के सामने होंगे.

सत्र के बाद कश्मीर जाने का भी है प्लान
मीडिया रिपोर्ट्स इशारा करती है कि इस संसद के सत्र को खत्म करने के बाद में अमित शाह खुद कश्मीर घाटी में जाने वाले है और वहाँ पर जाकर के हालात का लाइव जायजा लेना चाह रहे है. ये भी कुछ ही दिनों में हो जाएगा.