अमित शाह ने बताया ‘बड़े बड़े नेताओं के फोन आ रहे थे लेकिन उन्होंने योगी को मुख्यमंत्री क्यों बनाया’?

905

आपको उत्तर प्रदेश के चुनावों के बाद का वक्त तो याद ही होगा जब भारतीय जनता पार्टी ने बड़ी मशक्कत के बाद में यूपी में बहुत ही बड़ी जीत हासिल की थी और इस जीत के बाद में हर कोई हैरान भी था जिस तरह से बीजेपी जीत गयी. अब मुख्यमंत्री बनाया जाना था और योगी आदित्यनाथ का नाम इसमें कही दूर दूर तक नही था लेकिन तब भी बीजेपी ने लीक से हटकर एक घोषणा की जिसमे योगी जी को जिन्हें प्रशासनिक अनुभव नही था उन्हें भी पूरे सूबे का मुख्यमंत्री बना दिया गया. अमित शाह के इस फैसले से उस वक्त सभी हैरान थे.

शाह ने दिया योगी को बतौर मुख्यमंत्री चुनने का जवाब
अभी हाल ही में शाह यूपी में कुछ योजनाओं की सौगात लेकर के पहुंचे और यहाँ पर उन्होंने बताया कि आखिर योगी आदित्यनाथ को क्यों चुना गया? वो कहते है ‘ किसी ने ये बात सोची भी नही थी कि योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बनेंगे.कई लोगो ने तो मुझसे ये भी कहा कि योगी जी को नगर निगम तक चलाने का अनुभव नही है. ये बात सही भी है कि उन्हें कोई अनुभव नही था. वो तो एक मंदिर के प्रमुख ही थे लेकिन हमने उन्हें सीएम बनाया क्योंकि हमें उनकी कर्मठता और कठिन परिश्रम पर पूरा भरोसा था. योगी आदित्यनाथ वो व्यक्ति है जिनके परिश्रम के आगे अनुभव बाधा नही बनता है.’

अमित शाह बताते है कि योगी आदित्यनाथ के काम करने के तरीके और उनके ट्रैक रिकॉर्ड से वो काफी प्रभावित थे जिसके चलते उन्होंने और पीएम मोदी ने उन्हें मुख्यमंत्री पद के लिए चुना. हालांकि उस वक्त कई नाम चल रहे थे जिनमे केशव प्रसाद मौर्य और मनोज सिन्हा जैसे बड़े बड़े नाम चल रहे थे लेकिन भरोसा योगी जी के नाम पर जताया गया और कही न कही ये फैसला सही भी साबित हुआ है.

क्या भरोसे पर खरे उतरे योगी?
योगी आदित्यनाथ ने पुलिस प्रशासन की व्यवस्था को पहले की तुलना में काफी दुरस्त किया है, क्राइम रेट कम हुआ है, कुम्भ का मेला उनके द्वारा किये गये कार्यो में एक बेंचमार्क है और एक्सप्रेसवे की योजनाओं को भी वो तेजी से विस्तार दे रहे है जो बताता है वो मोदी और शाह की सबसे बेस्ट चॉइस साबित हुए है.