कभी 700 रूपये की नौकरी करता था मायावती का भाई, अब इनकम टैक्स ने खोजा तो निकल रहे अरबो

327

सत्ता और राजनीति आपको कहाँ से कहाँ पहुंचा देती है इसका उदाहरण अगर आपको देखना है तो आपको मायावती और उनके कुनबे की तरफ झाँककर के देखना चाहिये. हम बात कर रहे है मायावती के भाई और वर्तमान में बसपा के उपाध्यक्ष आनंद कुमार की जो 1996 में नॉएडा विकास प्राधिकरण में नौकरी किया करते थे और उनकी तनख्वाह महज 700 रूपये थी. मगर 25 साल में ऐसा क्या बदल गया कि उनकी किस्मत सोने की पोटली सी हो गयी है. जहाँ पर हाथ डालो बस रूपया पैसा ही निकल रहा है. चलिए फिर थोड़ी सी तफ्तीश कर लेते है.

छापा मार की गयी 400 करोड़ की सम्पति जब्त
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने हाल ही में नॉएडा में एक बहुत ही बड़े प्लाट पर छापा मारा जो लगभग 28 हजार मीटर स्क्वायर बड़ा है और इसकी कीमत 400 करोड़ रूपये है. ये एक बेनामी सम्पति है जिसके बारे में जैसे ही आयकर विभाग को जानकारी मिली तो उन्होंने तुरंत इसे कब्जे में कर लिया और इसमें ईडी भी उनकी अच्छे तरीके से मदद कर रहा है.

अभी भी ग्रेटर नॉएडा में अकूत सम्पति होने का शक
कहा जा रहा है कि आनंद कुमार ने बसपा के शासन काल में कई फर्जी कम्पनियां बनाई और उनका इस्तेमाल करके बड़ी बड़ी जमीने खरीद ली. ये वो जमीने बताई जा रही है जो सरकार ने खुद आवंटित की थी. इसके लिए 10 प्रतिशत एडवांस जमा करवाना होता था. उनका और उनके कई करीबियों के नाम से बड़ी खरीद फरोख्त की खबरे शुरू से ही आती रही लेकिन ये कभी भी बाहर नही आ सकी क्योंकि तब मायावती का रसूख बोला करता था. दावे तो यहाँ तक किये जा रहे है कि आनंद कुमार के करीबियों के नाम पर कई बड़े बड़े फार्म हाउस तक आवंटित हुए है. ये अपने आप में बड़ा ही चौंकाने वाला था. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का कहना है कि उनके पास और भी कई सारी जानकारी है और वो आगे और भी कार्यवाही कर सकते है.

वही बात करे मायावती की तो वो इसे सरकार की साजिश बता रही है, दलितों पर अत्याचार बता रही है जिसके बाद में कोई भी समाझ नही आ पा रहा है कि अगर ये सम्पति वाकई में आनंद कुमार की है तो वो हिसाब दे दे इसमें दलित और साजिश जैसे शब्द कैसे आ गये?