खबरदार: ड्राइविंग लाइसेंस के इन नियमो में बदलाव करने जा रही है मोदी सरकार

252

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार जबसे आयी है तबसे ही नियमो में बड़े तेजी के साथ में बदला जा रहा है. ये जरूरी भी है क्योंकि जब तक ये न हो तब तक बदलाव भला कैसे आएगा? समय की मांग होती है कि नियम कायदे क़ानून उस हिसाब से बदले जाये. ऐसे में देश के परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने किसी बड़े स्तर के बदलाव की घोषणा की है जो फर्जी लाइसेंस को तो खत्म कर ही देगा. साथ ही साथ में उन्होंने संसद में भी इस पूरी व्यवस्था पर ही सवाल खड़े करते हुए काफी कुछ कहा है.

गडकरी कहते है ‘ लोग न तो क़ानून से डरते है और न ही उसकी इज्जत करते है. आप लाइसेंस में देखेंगे तो उसकी फोटो चेहरे से मैच नही करती है. भारत में फ़िलहाल 30 प्रतिशत ड्राइविंग लाइसेंस फर्जी है. इसे बदलना होगा.’ इसी के सम्बन्ध में अब सरकार मोटर व्हीकल अमेंडमेंट बिल ला रही है तो चलिए फिर जानते है इससे कौन कौनसे बदलाव होने जा रहे है और क्या वो आपकी जिन्दगी को भी प्रभावित करेंगे?

  1. अब अगर आप ड्राइविंग लाइसेंस बनवाते है तो उसके लिये आपको आधार कार्ड होना बेहद ही जरूरी होगा. आधार कार्ड न होने की सूरत ने ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना या फिर गाडी का रजिस्ट्रेशन करवा पाना ही संभव नही होगा.
  2. पहले ड्राइविंग लाइसेंस 20 वर्ष के लिए जारी किया जाता था और उसके बाद बीस साल तक कोई टेंशन नही लेकिन अब ये 10 साल बाद रिन्यू करवाना आवश्यक होगा.
  3. इस बिल में जुर्माने की राशि को भी 10 प्रतिशत तक बढ़ा दिया गया है और कई जगहों पर तो ये काफी ज्यादा बढ़ चुका है जैसे अब सीटबेल्ट न पहनने पर ही 1000 रूपये तक का जुर्माना लग जायेगा जो पहले के मुकाबले कई ज्यादा है.
  4. इसमें एक अच्छी चीज और जोड़ी गयी है कि हेवी मोटर व्हीकल का लाइसेंस लेने के लिए शैक्षणिक योग्यता की अनिवार्यता को खत्म कर दिया गया है. इससे अनपढ़ ट्रक ड्राईवरो को अच्छा खासा फायदा होगा.

सरकार उम्मीद तो खूब लगा रही है कि इन नए नियम कायदों से सड़क पर लोगो के चलने का तरीका और सलीका दोनों ही बदलेंगे लेकिन ऐसा वाकई में हो पाता है या फिर नही ये तो आने वाले वक्त में ही पता चल पायेगा.