राजीव गांधी का जो सपना राहुल गांधी पूरा नही कर सके, वो स्मृति ईरानी पूरा करने जा रही है

419

अमेठी शहर पर काफी लम्बे समय से भारतीय जनता पार्टी ने राज नही किया है इस जगह पर सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस का ही शासन रहा और ये अपने आप में थोडा सा चौंकाने वाला भी होता है कि एक ही पीढी के लोग एक संसदीय क्षेत्र में बने रहे लेकिन अब इस पुरानी अवधारणा को तोड़ते हुए स्मृति ईरानी न सिर्फ अमेठी की सांसद बनी है बल्कि साथ ही साथ में वो ऐसा काम करने जा रही है जो राजीव गांधी के सिर्फ सपनो में ही था. ये कही न कही दल और पार्टी की राजनीति से ऊपर ले जाने वाली बात ही कही जायेगी जो कही न कही तारीफ़ के काबिल भी है.

अमेठी सुलतानपुर रेलमार्ग था राजीव गांधी का सपना
देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का सपना था अमेठी सुलतानपुर रेलमार्ग को बनाना. उन्होंने कई बार इस सम्बन्ध में प्रोजेक्ट शुरू भी करने चाहे लेकिन वो बड़े आदमी थे तो इन छोटे छोटे कामो की तरफ उनका ध्यान कहाँ जाता? राजीव के बाद राहुल ने भी इस प्रोजेक्ट को शुरू किया लेकिन इस पर कोई भी काम नही हुआ और सब ज्यों का त्यों पडा रहा और बस पडा ही रह गया.

स्मृति ईरानी ने शुरू करवाया दनादन काम
स्मृति ईरानी ने अमेठी से सांसद बनते ही इस पर काम करना भी शुरू कर दिया है. इस रेलवे प्रोजेक्ट के लिए कुल 136 हेक्टेयर के करीब भूमि के अधिग्रहण की जरूरत होगी जो भी समय के साथ में किया जा रहा है और उस जगह पर अब रेलवे ट्रैक बिछाने की शुरुआत होगी. इस पूरे ट्रैक पर अमेठी सुलतानपुर समेत अठेहा, धम्मौर और पिन्दोरिया समेत कई सारे स्टेशन बनेंगे जिससे उन गाँवों तक रेलवे की कनेक्टिविटी पहुँच जायेगी. इससे उन गाँवों का शहर की तरफ आना जाना पहले की तुलना में काफी ज्यादा आसान हो जाएगा.

इन सभी कामो का श्रेय कही न कही स्मृति ईरानी को दिया जा रहा है. स्मृति सिर्फ यही काम नही करवा रही है वो अमेठी में रोड से लेकर अस्पतालों के सम्बन्ध में भी अच्छी पहल कर रही है. सरकार के विकास कार्यो ने गति पकड़ ली है और कही न कही ये अमेठी के भविष्य के लिए ही फायदेमंद होने वाला है.