अब सस्ते में सोना दे रही है मोदी सरकार, सिर्फ 12 जुलाई तक है मौक़ा

744

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस सरकार द्वारा पेश किये गये इस बजट में सोना खरीदने के शौक़ीन लोगो के लिए तो झटका ही था क्योंकि सोने पर आयात शुल्क 10 फीसदी से बढाकर के 12.5 फीसदी कर दिया गया और इससे सोना बाजार थोडा सा निराश जरुर है क्योंकि अब उनके प्रॉफिट में तो कोई बढ़ोतरी नही है लेकिन उन्हें अधिक टैक्स जरुर देना पड़ जायेंगे. अगर आप भी सोना खरीदने के शौक़ीन है तो आपको इससे निराश होने की जरूरत नही है क्योंकि जब बात सरकार की आती है तो वो कही न कही ग्राहकों के हितो का ख़याल भी रखती है और ऐसे में आपके लिए काम आती है कुछ स्कीम्स जो आम आदमी के लिए चलाई जाती है.

सोवरेन गोल्ड बॉन्ड के तहत खरीद सकते है सोना
मोदी सरकार ने ये स्कीम सन 2015 में ही शुरू कर दी थी जिसके तहत समय समय पर सोना खरीदने वाले लोगो को सरकार अच्छी खासी छूट मुहैया करवाती है. इसमें किसी भी मार्किट का प्रभाव नही होता बल्कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया खुद सोने की कीमत तय करता है और इस बार भी 8 जुलाई से 12 जुलाई तक का वक्त सोवरेन गोल्ड बांड के लिए तय किया गया है जिसमे आप सोना खरीद सकते है.

कितनी मिल सकती है छूट?
अब सवाल ये है कि छूट कितनी मिलती है? तो आपको हर एक ग्राम पर अच्छी खासी छूट मिलती है. जैसे अभी बाजार में 3487 रूपये का भाव चल रहा है तो ऐसे में आपको ये एक ग्राम सोना 3443 रूपये में पड़ेगा अगर आप कैश में पेमेंट करते है लेकिन अगर आप पेमेंट डिजिटल मोड में यानी बैंक ट्रान्सफर जैसे तरीके से करते है तो आपको हर एक ग्राम पर 50 रूपये की और छूट दे दी जाती है तो इससे आपका एक ग्राम सोना 3393 रूपये का पड़ जाएगा. यानी आप अगर एक पेंडेंट के बराबर का सोना खरीदते है तो लगभग आपको 1000-1500 रूपये का फर्क मिल जाएगा यानी ये सोने में इन्वेस्ट करने का सबसे बेहतरीन समय है.

सरकार को सोना नही पसंद है शेयर बाजार
हालांकि सरकार को ये बिलकुल पसंद नही है कि लोग सोने में इन्वेस्ट करे क्योंकि सोना इकॉनमी में ठहराव को जन्म देता है जबकि शेयर मार्किट और मुचुअल फंड में इन्वेस्ट करने से इकॉनमी फ्लो बढ़ता है इसलिए सरकार सोना खरीदने के लिए कम लेकिन मुचुअल फंड में इन्वेस्ट करने के लिए ज्यादा प्रचार करती नजर आती है.