गिरिराज सिंह ने मोदी जी से बच्चे पैदा करने पर ये नया क़ानून लाने की मांग की है

158

बेगूसराय से सांसद और भारतीय जनता पार्टी की सरकार के मंत्री गिरिराज सिंह अक्सर ही अपने बयानों को लेकर के सुर्खियों में बने रहते है और वो अपनी विचारधारा से जुड़े हुए मुद्दे भी उठाते है. ये लोकतंत्र में हर व्यक्ति का अपना अधिकार भी है और नेताओं का तो काम ही यही होता है कि वो समाज से जुड़े मुद्दे उठाये लेकिन इस बार गिरिराज सिंह ने जो भी बयान दिया है उसके बाद में कुछ लोगो के पेट में मरोड़ उठना तय है और वाकई में ऐसा ही कुछ हुआ है. चलिए फिर जानते है गिरिराज सिंह ने आखिर क्या कहा है?

हिन्दू हो या मुस्लिम, बच्चे दो ही अच्छे
गिरिराज सिंह ने जनसँख्या नियंत्रण क़ानून की मांग करते हुए कहा कि हिन्दू और मुस्लिम दोनों के लिए ही दो बच्चो का नियम होना चाहिये और अगर कोई भी इस नियम को नही मानता है तो उसका वोटिंग का अधिकार खत्म कर देना चाहिये. गिरिराज सिंह ने ये भी कहा कि औवेशी जैसे लोग देश की सामजिक समरसता में बाधक है. अगर बढती हुई जनसँख्या को नही रोका गया तो फिर देश सांस्कृतिक विभाजन की ओर बढेगा. ये अपने आप में एक बुरी बात है.

इससे पहले बाबा रामदेव भी कर चुके है जनसँख्या नियंत्रण क़ानून की मांग
गिरिराज सिंह से पहले बाबा रामदेव भी यही बात कह चुके है. उन्होंने भी तीन बच्चे पैदा करने पर वोटिंग राइट्स खत्म कर देने और सरकारी सुविधाए न देने की मांग की थी. इसका कई लोगो ने समर्थन भी किया था और कई लोगो ने विरोध भी किया था. आजतक पत्रकार रोहित सरदाना ने भी इसे कही न कही सही ठहराते हुए कहा था कि चाहे तरीका दूसरा हो लेकिन जनसँख्या को रोका जाना जरूरी है. इन सबके बीच में सवाल तो वाकई में देश में जनसँख्या को लेकर के उठते है.

क्या वाकई में इतनी बड़ी समस्या है?
जनसंख्या सच में बहुत ही विकराल समस्या है आने वाले दशक में भारत विश्व के सबसे अधिक जनसँख्या वाला देश बन जाएगा. जिसके लिए पास पानी, तेल या फिर अन्न समेत बिजली भी उतनी उपलब्ध करवा पाना मुश्किल हो जाएगा और कई अलग रास्तो की खोज करनी होगी और ये अपने आप में एक त्रासदी ही कही जायेगी.