योगी आदित्यनाथ के आदेश को एसपी ने बताया गलत, फिर देखिये उसके साथ क्या हुआ?

1482

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनता के लिए जितने मददगार और सॉफ्ट है अधिकारियो और सरकारी कर्मचरियों के लिए वो उतने ही ज्यादा कड़क है. उनके सत्ता में आने के बाद से ही सरकारी महकमे की हवा टाइट हो रखी है सभी को वक्त पर आना जाना पड़ रहा है, करप्शन कम हो रहा है और किसी को सीएम ऑफिस के आदेशो के खिलाफ चूं तक करने की भी इजाजत नही है. अभी हाल ही में योगी आदित्यनाथ ने एक नियम निकला है जिसके तहत सभी सरकारी कर्मचारियों और अफसरों को सुबह के 9 बजे ही दफ्तर पहुंचना होगा और पहुँचने के बाद में जनसुनवाई की प्रक्रिया शुरू करनी होगी.

अब सुनने में तो ये बड़ा ही सही लगता है क्योंकि इससे लोगो की दिक्कते जल्दी सुलझेगी लेकिन किसी को ये आदेश रास नही आया और वो है कासगंज के एसपी अशोक कुमार. एसपी अशोक का एक विडियो काफी वायरल हुए था जिसमे वो कहते हुए नजर आ रहे थे कि योगी आदित्यनाथ का इतनी सुबह सुबह दफ्तर आने को कहना एकदम टॉर्चर की तरह है. कम से कम पुलिस को तो इस मामले में छूट मिलनी चाहिए.

अब किसी को ये मामला सही लग रहा था तो किसी को गलत लग रहा था. सभी के अपने अपने विचार थे मगर योगी जो शायद ये बात रास नही आयी और उन्होंने एक्शन भी ले लिया. अशोक कुमार का नाम उन लोगो की लिस्ट में शामिल है जिनका तबादला कर दिया गया है और उनका भी ट्रान्सफर कर दिया गया जिसके बाद उन्हें एसपी से हटाकर के मुरादाबाद में नौ पीएसी बटालियन का सेनानायक बना दिया गया है. यही नही खुद बड़े पुलिस अफसरों ने भी इस मामले में संज्ञान लिया है और अशोक कुमार से स्पष्टीकरण मांगने के लिहाज से उन्हें नोटिस थमा दिया गया है.

सरकार से अफसर द्वारा आफत मोल लेने के बाद में उसे काफी समस्याओं से दो चार होना पड़ता है और अभी एसपी अशोक के साथ ऐसा ही कुछ हो रहा है. हालाँकि ये चीजे साफ़ तौर पर खुलकर के कभी भी सामने नही आती है लेकिन राजनीति से लेकर ब्यूरोक्रेट्स और लुटियंस की लॉबी यहाँ पर काम लगातार करती रहती है.