निगम अधिकारी पर बल्ला चलाने वाले आकाश विजयवर्गीय पर पीएम मोदी ने बड़ी बात कही है

258

आकाश विजयवर्गीय जो इंदौर से विधायक है और बीजेपी के बड़े नेता कैलाश विजयवर्गीय के बेटे है वो इन दिनों काफी ज्यादा चर्चा में है. उन्होंने अपने एक बीजेपी कार्यकर्ता के घर को बचाने के लिये निगम अधिकारियों को उनका घर त्तोड़ने से रोका और न सिर्फ रोका बल्कि उन पर बैट से हमला तक कर दिया. इसके बाद में उन्हें जेल हुई और जेल के बाद में जमानत भी मिल गयी. सब कुछ सही चला, कई लोगो ने आकाश का विरोध किया तो एक लॉबी ऐसी भी बनी जिन्होंने आकाश के इस कदम को बिलकुल सही ठहराया और उसके सपोर्ट में कई सारी बाते भी कही लेकिन अब खुद पीएम इस चीज के खिलाफ खड़े हो गये है.

बेहद नाराज दिखे पीएम मोदी
नाम लिए बिना ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसदीय दल की बैठक में इन चीजो पर बेहद ही नाराजगी जाहिर की है. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा ‘ इस तरह का व्यवहार बिलकुल ही अस्वीकार्य है. चाहे वो किसी का बेटा हो या फिर सांसद हो. किसी को भी अहंकार नही होना चाहिए. व्यवहार को ठीक करना चाहिए और ऐसे लोग तो पार्टी में ही नही होने चाहिये.’ हालांकि गनीमत ये रही कि इस दौरान उन्होने आकाश विजयवर्गीय या कैलाश विजयवर्गीय का नाम नही लिया.

क्या था पूरा मामला?
निगम के अधिकारी इंदौर के एक इलाके में जर्जर मकान को तोड़ने के लिए पहुंचे थे जिन्हें रोकने आकाश पहुँच गये जहाँ के वो विधायक है. आकाश ने निगम अधिकारियों की बल्ले से पिटाई की जिसके चलते उन्हें कुछ वक्त तक जेल में भी रखा गया और फिर बड़ी मुश्किल से बेल मिल सकी. इस पूरे मसले के बाद में प्रधानमंत्री मोदी ने जिस तरह से प्रतिक्रिया दी है वो अपने आप में ये दिखाता है कि अगर आकाश पार्टी के भरोसे पर कुछ भी करने की सोच रहे है तो ऐसे में बीजेपी अपने हाथ बड़े ही आराम से खींच लेगी.

पिता ने किया था समर्थन
जहाँ एक तरफ पीएम मोदी को ये हरकत पसंद नही आयी थी वही दूसरी तरफ आकाश के पिता कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि आकाश ने अगर कुछ किया है तो वो गरीब की मदद के लिए किया है उसने किसी बिल्डर के लिए लड़ाई नही की है. बल्ले चलाने के मुद्दे पर उन्होंने कन्नी काट ली और जवाब नही दिया. जो लोगो को परेशान कर रहा है और कांग्रेस को हमला करने का मौक़ा भी दे रहा है.