दिल्ली के चावड़ी बजार में दुर्गा माता के मंदिर के साथ बहुत बुरा हुआ है

695

पिछले 24 घंटे से लगातार सोशल मीडिया पर कुछ एक तस्वीरे शेयर की जा रही है जिसे देखकर के पता चलता है कि दिल्ली के चावडी बाजार में तोड़फोड़ हुई है और धार्मिक स्थल को चोट पहुंचाई गयी है. पहले इस बात की हकीकत पता लगाना भी जरूरी है कि ये बाते सच है या झूठ? तो तीन बड़े मीडिया समूह की फैक्ट चेकिंग रिपोर्ट में चावडी बजार में हिन्दुओ के साथ हुई ज्यादती को बिलकुल सही पाया गया है जिसमे एक नाम बीबीसी भी है. तो चलिये फिर पूरे मामले की तह तक जाते है और पूरी हकीकत को जानने की कोशिश करते है.

निजी से धार्मिक बन गया मामला
यहाँ पर दो पक्ष है एक हिन्दू और एक मुस्लिम. हिन्दू पक्ष का कहना है कि उन्होंने एक व्यक्ति को शराब पीने से रोका और मुस्लिम पक्ष का कहना है हिन्दुओ ने हमारे लड़के को पार्किंग करने से रोका. आपस में पिटाई जैसी नौबत आ गयी. अब क्योंकि दोनों लोग विपरीत धर्म से थे तो वही पर मौजूद दुर्गा मंदिर की गली में कुछ लोग घुस आये और उनकी संख्या तकरीबन 30 लोगो की थी. उन्होंने मंदिर पर पथराव किया, लोगो को पीटा और तो और कई लोगो को भी शारीरिक रूप से नुकसान पहुंचाने का दावा किया गया है.

डर में आम लोग, पूरे इलाके मे पुलिस तैनात
पूरे इलाके में रहने वाले आम लोग इससे काफी डरे हुए है और उन्हें भय है कि कही कोई उन्हें या उनके घर को ही नुकसान न पहुंचा दे जिसके चलते इलाके में पुलिस के साथ ही साथ में पैरामिलिट्री को भी तैनात किया गया है. हालात नाजुक है इसलिए अभी कुछ समय तक फ़ोर्स तैनात ही रखी जायेगी. मामले को बड़े स्तर के अफसर देख रह है और अपने तरीके से हेंडल कर रहे है. लोगो से शान्ति बनाए रखने की अपील की जा रही है.

दोनों पक्ष चाहे कुछ भी दावा करे लेकिन ये अपने आप में बेहद ही भय पैदा करने वाला है कि एक लड़ाई में दुर्गा मंदिर को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गयी है जो लोगो की आस्था से जुड़ा हुआ मसला है. उस वक्त काफी लोग सो चुके थे. अगर सोये हुए न होते तो ये बहुत बड़े टकराव में बदल सकता था.