पहले सिन्दूर लगाकर संसद में शपथ ली, अब हिन्दू धर्म से जुड़ा एक और बड़ा काम करेगी नुसरत

312

सांसद तो देश में खूब है लेकिन इन दिनों उनमें सबसे ज्यादा चर्चित सांसदों में शुमार है नुसरत जहां. सबसे पहले तो उनकी ऐक्ट्रेस टाइम की काफी हॉट फोटोज वायरल हुई. इसके बाद वो पहली बार संसद में बड़े ही बिंदास अंदाज में पहुँची तो लोगो ने उन्हें सुना दिया लेकिन अगली बार वो माथे में सिन्दूर, गले में मंगलसूत्र और हाथो में मेहँदी रचाकर के पहुँच गयी तो कई कट्टरपंथियों को उनकी ये हरकत बिलकुल भी पसंद नही आयी जिसके बाद उनकी आलोचना होने लगी लेकिन इन सबके बीच में नुसरत ने एक बार फिर से ऐसा कदम उठाया है जो कुछ लोगो को जलाने वाली है.

इस्कॉन मंदिर में मुख्य अतिथि बनेगी नुसरत
नुसरत जहाँ के बारे में इस्कॉन मंदिर के प्रवक्ता ने कहा है कि नुसरत के विचार हमारे विचारों से काफी मिलते है. वो भी सभी धर्मो को सम्मान देती है. ऐसी राजनेता के तौर पर वो लोगो को प्रभावित जरुर करेगी और ख़ास तौर पर युवाओं को प्रभावित करेगी इसलिए हमने नुसरत को मंदिर में आमंत्रित किया है. अगर आपको जानकारी न हो तो बता दे इस्कॉन भगवान् कृष्ण का विश्व भर में प्रचार प्रसार करने वाली संस्था है और इसके भारत में भी बड़ी संख्या में मंदिर है.

नुसरत ने दिया इस्कॉन को प्रेम भरा जवाब
इस्कॉन की तरफ से की गयी तारीफ़ के बाद में नुसरत बेहद ही खुश है और उन्होंने कहा है कि मेरी सभी धर्मो को सम्मान देने की सोच कभी भी नही बदल सकती है. जहाँ तक मेरी साड़ी या किसी और चीज की बात है तो वो धर्म कपड़ो से बिलकुल ही परे होता है. जैसा नुसरत का रिस्पोंस रहा है और उनके इस्कॉन के साथ में अच्छे सम्बन्ध बने है तो उसके बाद अप जल्द ही उन्हें कृष्ण मंदिर में बोलते हुए सुन सकेंगे और इससे युवा अच्छी खासी मात्रा में प्रभावित होंगे.

फतवाधारियों की बढ़ेगी मुसीबत
नुसरत के खिलाफ पहले भी कई मौलवी हिन्दू से शादी करने और सिन्दूर जैसी चीजे पहनने पर नाराजगी जता चुके है जिसके बाद अगर वो इस्कॉन के करीब जाती है तो संभव है मौलवियों का समूह नुसरत के खिलाफ कोई बड़ा या सख्त एक्शन ले. हालांकि नुसरत का कहना है उन्हें इन लोगो से कोई फर्क नही पड़ता वो एक इन्क्लूजिव इंडिया का प्रतिनिधित्व करती है.