नुसरत जहाँ के संसद में सिन्दूर लगाकर आने की वजह से साध्वी प्राची और देवबंद मौलवी में झगडा हो गया

90

आपने वो शब्द तो सुने ही होंगे कि स्त्री चाहे तो महाभारत करवा सकती है और इस वक्त ऐसा ही कुछ भारतीय राजनीति में भी देखने में आ रहा है. नुसरत जहाँ जो टीएमसी की सांसद है और जन्म से मुस्लिम है और उन्होंने निखिल जैन से शादी की है. शादी के बाद वो बड़े ही प्यारे से हिन्दू लिबाज में सज धजकर के संसद में पहुँची जहाँ कुछ ने उनकी तारीफ़ की तो कुछ ने आलोचना की और अब उनका यही सज्जा और श्रृंगार दो लोगो के बीच में भिडंत की वजह बन रहा है. चलिये फिर पहले तो पूरा मामला ही जान लेते है.

टीएमसी सांसद ने ली थी मांग में सिन्दूर सजाकर संसद में शपथ
जन्म से मुस्लिम लेकिन हिन्दू से शादी करने के बाद में उन्होंने अपने पति के घर वालो की रीत के मुताबिक़ सिन्दूर, मंगलसूत्र और कंगन वगेरह पहने. अपने हाथो में मेहंदी भी रचाई और इसे देखकर के कई लडकियाँ भी खुश हुई क्योंकि वो पेशे से एक ऐक्ट्रेस है और जब सांसद और ऐक्ट्रेस इस तरह के ट्रेंड सेट करे तो वो फैशन सा बन जाता है.

देवबंद के मौलवी ने जारी किया फतवा तो साध्वी प्राची ने किया बचाव
कई कट्टरपंथियों को इस तरह की प्रोग्रेसिव सोच पसंद नही आयी और देवबंद के मौलवी ने नुसरत के इस तरह हिन्दू व्यक्ति से शादी करके मंगलसूत्र पहनने के खिलाफ फतवा जारी कर दिया है. इस पर साध्वी प्राची भड़क गयी और एक मीडिया समूह से बात करते हुए कहा ‘ अगर कोई मुस्लिम महिला हिन्दू से शादी करके बिंदी, बिछिया पहन ले तो उसे ये हराम कहते है और कोई मुस्लिम व्यक्ति हिन्दू लडकी को लव जिहाद में फंसाकर शादी करे और उसे बुर्का पहनाये तो वो जायज है.’

मौलवी ने इस बात पर भड़कते हुए साध्वी प्राची को बेलगाम औरत कह दिया और कहा मुझे साध्वी प्राची की सोच पर ही तरस आता है. वो कहते है कि ऐसी औरतो को धर्म की कोई भी समझ नही होती है इस्लाम सिर्फ और सिर्फ अमन का पैगाम देता है. जिस तरह से अब ये मामला गर्मी पकड़ रहा है उससे लगता है नुसरत को काफी परेशानियां जरुर झेलनी पड़ेगी. हालांकि वो सभी आलोचकों को ये कहकर के दे चुकी है कि वो अपना मजहब फोलो करेगी लेकिन पति के घर की रीति रिवाज से भी उसे कोई दिक्कत नही है.