धारा 370 पर अमित शाह ने जो कहा है, उसके बाद कश्मीर में खलबली मच चुकी है

740

संसद के सत्र में पीएम नरेंद्र मोदी तो पहले ही विपक्ष की बखिया उधेड चुके है और इसके बाद में उनके हमजोली कहे जाने वाले और देश के गृहमंत्री अमित शाह ने भी आज लोकसभा में कुछ ख़ास बिल पेश किये जिसमे जम्मू कश्मीर में आरक्षण से जुडी बाते थी इससे केन्द्रीय पार्टियों का कश्मीर में हस्तक्षेप बढ़ने की संभावना है लेकिन उससे भी ख़ास है अमित शाह की कही हुई बाते जो कही न कही कांग्रेस और अलगावादियों के दिलो को चुभ सी गयी है.

नेहरु और शेख अब्दुल्लाह को बताया कश्मीर की समस्या की जड़
अमित शाह ने पहला हमला नेहरु और शेख अब्दुल्लाह पर करते हुए कहा कि कांग्रेस ने वहाँ कश्मीर में शेख अब्दुल्लाह की टोकरी में अंडे रखे लेकिन वो खुद ही टोकरी लेकर के भाग गये. कश्मीर के लोगो में असंतोष कांग्रेस और पुरानी सरकारों द्वारा किये गये फर्जी चुनावों के कारण है, वहां सिर्फ फर्जी राजनीति खेली जाती रही.

चुनाव आयोग जब कहेगा तब होगा कश्मीर में चुनाव
कश्मीर में चुनाव करवाने को लेकर अमित शाह ने कहा जब चुनाव आयोग कहेगा तब हम जम्मू कश्मीर में चुनाव करवाएंगे. फ़िलहाल 6 महीने के लिए राष्ट्रपति शासन आगे बढ़ाया जाएगा.

परमानेंट नही है धारा 370
धारा 370 पर भी अमित शाह ने काफी ज्यादा सख्त होते हुए कहा कि ये कोई भी परमानेंट नही है. संविधान में जब आप इसे पढ़ते है तो आपको ध्यान देकर के पढ़ना चाहिए कि ये अस्थायी है यानी इसे हटाया जाना चाहिए. अब इसे लेकर के भारतीय जनता पार्टी का स्टैंड क्या है? इसे लेकर के किसी को भी शक नही होना चाहिए. हमारा स्टैंड जो पहले था वो पहले ही रहेगा. बता दे बीजेपी का कहना है कि उनके पास 2022 तक राज्यसभा में बहुमत आने की संभावना है तब इसे हटाया जा सकेगा.

टुकड़े टुकड़े गैंग पर भी बरसे शाह
अमित शाह ने साफ़ साफ़ शब्दों में उन लोगो को भी चेतावनी दी कि जो लोग भारत के साथ है जो अच्छे बच्चे है उन्हें हम भारत भर में घुमाते है, पढ़ाते है, सुविधाए देते है लेकिन जो भारत के खिलाफ बोलता है उसके मन में डर होना चाहिए.